छत्तीसगढ़ : भिलाई इस्पात संयंत्र में बड़ा हादसा, 9 मरे, 14 घायल

0
241

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) के भिलाई इस्पात संयंत्र में मंगलवार सुबह लगभग 10.30 बजे नियमित मरम्मत कार्य के दौरान कोक ओवन बैटरी कॉम्प्लेक्स नंबर-11 के गैस पाइप लाइन में विस्फोट हो जाने से 9 कर्मियों की मौत हो गई और अन्य 14 कर्मचारी झुलस गए। संयंत्र के डीजीएम (पीआरओ) विजय मेरॉल ने बताया कि घायलों को तत्काल भिलाई के अस्पताल में पहुंचाया गया। आग पर काबू पा लिया गया है। इस हादसे में 9 लोगों की मौत हुई है। 14 लोगों का उपचार जारी है। उन्हें हर तरह की राहत दी जा रही है और देखभाल से जुड़े संसाधन मुहैया कराए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पूरा सेल परिवार इस घटना से प्रभावित परिवार के सदस्यों के साथ खड़ा है और उनको हर तरह की दी जाएगी।

हादसे की खबर मिलते ही संयंत्र के सीईओ एम.रवि, कलेक्टर उमेश अग्रवाल, आईजी (दुर्ग रेंज) जी.पी. सिंह, एस.पी. डॉ. संजीव शुक्ला, एएसपी विजय पांडेय, एसडीएम संजय अग्रवाल, सीएसपी (भिलाई नगर) श्याम सुंदर शर्मा, महापौर देवेंद्र यादव सहित कई अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों ने सेक्टर-9 हॉस्पिटल पहुंचकर दुर्घटना की जानकारी ली।

हादसे की सूचना मिलने पर पीड़ित कर्मियों के परिजन संयंत्र के मेन गेट पर पहुंचे और प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। मौके पर जिला और पुलिस प्रशासन की टीमें भी पहुंचीं और हालात को नियंत्रित किया।

भिलाई इस्पात संयंत्र में इससे पहले 12 जून, 2014 की शाम बड़ा हादसा हुआ था। फर्नेस नंबर 1 में गैस की दो पाइप लाइन फट गई थी, जिससे जहरीली मिथेन गैस का रिसाव हुआ था। इस हादसे में तीन अधिकारियों सहित 6 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं लगभग 20 से अधिक कर्मचारी इसकी चपेट में आने से घायल हो गए थे। इस घटना ने भिलाई ही नहीं, बल्कि पूरे देश को हिलाकर रख दिया था।

इस्पात मंत्रालय ने ताजा हादसे की रिपोर्ट तलब की है। केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी वीरेंद्र सिंह ने फोन पर संयंत्र प्रबंधन से बात की है और पूरे हादसे की रिपोर्ट तलब की है। वहीं गृह मंत्रालय ने भी पूरी जानकारी मांगी है। गृह मंत्रालय ने इस हादसे की वजह की मांगी है।

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ट्वीट कर हादसे पर दुख जताया है। उन्होंने लिखा, “आज भिलाई स्टील प्लांट में हुई गैस पाइप लाइन दुर्घटना से मुझे बहुत दुख पहुंचा है, इस हादसे में प्राण गंवाने वाले भाई-बंधुओं को भावभीनी श्रद्धांजलि। मैं ईश्वर से उनके परिवार को धैर्य प्रदान करने और घायलों के शीघ्र स्वास्थ लाभ की कामना करता हूं।”

हादसे में प्रभावित लोगों से मिलने प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल अस्पताल पहुंचे थे। उन्होंने पूरे मामले की न्यायिक जांच की मांग की और कहा कि इस घटना में जिम्मेदारों की पहचान होनी चाहिए। प्रभावित लोगों को मुआवजा मिलना चाहिए, ये अब तक का सबसे बड़ा हादसा है, प्रबंधन की चूक हुई है, जिस वजह से इतना बड़ा हादसा हुआ है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleविजय हजारे ट्रॉफी : असम ने दर्ज की पहली जीत
Next articleआइस स्केटिंग संघ का तीन दिवसीय कोचिंग कैम्प शुरू
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here