चंद्रयान-2: चंद्रमा पर पहुंचने वाला चौथा देश बनेगा भारत, जानिए इस मिशन के बारे में सबकुछ

0
361

जयपुर। भारत का अंतरिक्ष का सफर अब काफी आगे निकल चुका है और दुनिया के शीर्ष देशों में अब भारत की गिनती होने लगी है 22 अक्टूबर 2008 को पहले चंद्र मिशन के तहत भारत ने चंद्रमा को सफलता पूर्ण किया था और 22 अक्टूबर 2018 को पहले चंद्र मिशन के 10 साल पूरे हो चुके हैं.

आपको बता दें कि सोमवार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक खोज और भाग्य बढ़ेगी और यह और भी बढ़ेगी क्योंकि भारत एकता दुनिया का चौथा देश बन जाएगा जिन्होंने चंद्रमा पर कूझियाना उतारा हो.

भारत में 380400 किलोमीटर की यात्रा के लिए chandrayaan-2 को तैयार करने के लिए 960 करोड रुपए खर्च किए हैं और यह सतीश धवन स्पेस सेंटर में सोमवार को उड़ान भर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर 6 सितंबर को उतरेगा और इस मिशन से पृथ्वी के एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह चंद्रमा के रहस्य को जानने में मदद मिलेगी.

कहीं आपको बता दें कि प्रशिक्षण में सिर्फ 8 महीने में ही chandrayaan-1 में विश्व की सभी लक्ष्यों और उद्देश्यों को हासिल कर लिया था और आज भी इस मिशन से जुटाए गए आंकड़ों का अध्ययन दुनिया के वैज्ञानिकों द्वारा कर रहे हैं और इस विषय से दुनिया भर में भारत की साख भी बढ़ी है और वैज्ञानिकों का मनोबल भी बढ़ा है वहीं इसी का नतीजा यह है कि अब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन को पूरा कर चुका है.

वहीं मिशन के दौरान चंद्रमा की सतह पर मौजूद तत्वों का अध्ययन कर यह पता लगाने का काम किया जाएगा कि उसके चट्टान और मिलेंगे तभी से बनी है वहां मौजूद हों और चोटियों की संरचना का अध्ययन और घनत्व और उस में होने वाले परिवर्तन का अध्ययन इन सभी कार्यों को मिशन के द्वारा पूरा करा जा सकेगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here