भाजपा की वर्चुअल रैली में केंद्रीय नेता दिल्ली में बने विशेष मंच से करेंगे संबोधित

0

भाजपा विभिन्न राज्यों में वर्चुअल रैली की तैयारी कर रही है। इन्हीं रैलियों के जरिये पार्टी के तमाम दिग्गज नेता देश के अलग अलग शहरों में रैली करने वाले हैं। भाजपा की वर्चुअल रैली को केंद्रीय नेता दिल्ली में बने विशेष मंच से संबोधित करेंगे।

गृह मंत्री अमित शाह 7 जून को बिहार के लिए और 8 जून को पश्चिम बंगाल के लिये रैली करेंगे। दोनों ही राज्यों में पार्टी वर्चुअल रैलियों के जरिये विधानसभा चुनाव की तैयारियों का शंखनाद करेगी।

इस बावत रैलियों के लिए दोनों ही राज्यों में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों, जिलाध्यक्षों, मंडल अध्यक्ष और बूथों पर तैनात पार्टी के बूथ अध्यक्षों को रैली की लिंक भेजी जा रही है। इस लिंक के साथ एक मैसेज भी भेजा जा रहा है, जिसमें समय का उल्लेख है कि कब लिंक पर ऑनलाइन होना है। आम दिनों में होने वाली सामान्य रैलियों की तरह इन रैलियों के लिए भी मंच सजेगा और पार्टी के नेता से लेकर संयोजक तक मौजूद रहेंगे।

पश्चिम बंगाल के राणाघाट से सांसद जगन्नाथ सरकार ने कहा, “वर्चुअल रैली के लिए प्रचार तेजी से किया जा रहा है। इसके तहत एक स्टेज दिल्ली में होगा दूसरा कोलकाता में। दिल्ली में स्टेज पर गृहमंत्री अमित शाह रहेंगे, जबकि कोलकाता में बनाए जाने रहे वर्चुअल स्टेज पर राज्यों के प्रमुख नेता मौजूद रहेंगे। दोनों ही स्टेज को वीडियो लिंक से जोड़ दिया जायेगा, जिससे सभी लोग दोनों ही स्टेज पर बैठे लोगों को देख सकें। रैली को पहले प्रदेश के नेता संबोधित करेंगे, अंतिम में गृहमंत्री अमित शाह संबोधित करेंगे।”

इन वर्चुअल रैलियों के लिये लोगों को व्हाट्सएप, फेसबुक, एसएमएस, ट्विटर, टेलीग्राम के जरिए रैली का लिंक दिया जा रहा है। रैली का प्रसारण फेसबुक, यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया के अलावा केबल टीवी पर भी करने का प्रावधान किया गया है।

दोनों ही राज्यों में ज्यादा से ज्यादा लोगों को लिंक भेजा रहा है। पश्चिम बंगाल में पार्टी ने तय किया है कि कम से कम एक करोड़ लोगों को इस वर्चुअल रैली के जरिए जोड़ा जाय। मीटिंग में बंगाल के बाहर विदेशों में रह रहे एनआरआई बंगालवासियों और देश के अन्य शहरों में रह रहे बंगाल के लोगों को भी जोड़ा जाएगा। उधर कुछ ऐसी ही व्यवस्था बिहार के लिए भी की जा रही है।

ध्यान रहे कि भाजपा इस तकनीक का इस्तेमाल 2014 में कर चुकी है। तब पीएम पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने देशभर में 1000 स्थानों पर रैली को संबोधित किया था। उस समय पार्टी कार्यक्रम को भारत विजय थ्रीडी रैली का नाम दिया गया था। इसके पीछे सोच यह थी कि मोदी जहां खुद नहीं पहुंच सकते, वहां अत्याधुनिक थ्रीडी तकनीक के जरिए लोगों से मुखातिब होंगे। उस आयोजन में हर चिन्हित स्थान पर मंच लगा और लाइव प्रसारण की व्यवस्था की गई। इससे पहले 2012 के गुजरात विधानसभा चुनाव में भी इस तकनीक का सफल प्रयोग किया गया था।

नयूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleबिहार में क्वारंटाइन सेंटर की छत से कूदकर युवक ने की आत्महत्या
Next articleरोहित शर्मा ने बताई धवन की कॉमेडी, गब्बर की हरकत देख डर गया गेंदबाज
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here