CBI ने बैंकों को धोखा देने के लिए 2 कंपनियों पर मामला दर्ज किया

0

सीबीआई ने शुक्रवार को कहा कि उसने एनसीआर के साथ-साथ हरियाणा के करनाल में स्थित दो कंपनियों के खिलाफ बैंकों को 340 करोड़ रुपये से अधिक का चूना लगाने के आरोप में मामले दर्ज किए हैं और छह स्थानों पर छापेमारी की। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने दोनों कंपनियों के परिसरों के साथ-साथ उनके आरोपी अधिकारियों/मालिकों के परिसरों में छापे मारे।

सीबीआई के एक अधिकारी ने कहा कि एजेंसी ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की नॉफ्टोगेज इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली / नोएडा, और अन्य के खिलाफ धोखाधड़ी की शिकायत के बाद मामला दर्ज किया गया। बैंक ने कंपनी समेत अज्ञात लोकसेवकों और लोगों के खिलाफ बैंक को 219.81 करोड़ रुपये की हानि पहुंचाने के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी।

शिकायतकर्ता बैंक ने आरोप लगाया कि कंपनी ने खुद को 2005 में खनिज तेल, प्राकृतिक गैस और पेट्रोलियम उत्पादों की खोज, ड्रिलिंग, निष्कर्षण और उत्पादन के लिए ईपीसी ठेकेदार के रूप में बताया था।

धोखाधड़ी तब सामने आई जब फोरेंसिक ऑडिटर्स ने बीते साल 18 फरवरी को 1 अप्रैल, 2010 से 31 मार्च, 2014 की अवधि के लिए रिपोर्ट प्रस्तुत की।

अधिकारी ने कहा कि नॉफ्टोगेज के कार्यालय और आवासीय परिसर और अन्य आरोपियों के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र सहित तीन स्थानों पर तलाशी ली गई।

दूसरा मामला करनाल में राइस मिलिंग में लगे हरि हर ओवरसीज प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ पंजाब नेशनल बैंक की शिकायत पर दर्ज किया गया।

कंपनी और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया , जिसमें इसके निदेशक, गारंटर और अज्ञात लोक सेवक और व्यक्ति के खिलाफ बैंक को 121.75 करोड़ रुपये की हानि पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया।

आरोपियों ने कंपनी के स्टॉक के साथ-साथ मशीनरी को भी धोखे से बेच दिया था।

बैंक शिकायत में आरोप लगाया गया कि आरोपियों ने ऋण का लाभ उठाने के लिए अपने वित्तीय डेटा को गलत बताया।

अधिकारी ने कहा कि करनाल में अभियुक्तों के आधिकारिक और आवासीय परिसरों सहित तीन स्थानों पर तलाशी ली गई, जिससे गुप्त दस्तावेजों की बरामदगी हुई।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleGolf : सोनी ओपन में लाहिरी संयुक्त 72वें स्थान पर
Next articleदुनिया के सबसे बड़े Vaccination अभियान के लिए तैयार भारत
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here