1 जून से बदल जाएगा फॉर्म 26AS, जानें टैक्स पेयर्स पर क्या होगा बड़ा असर….

0

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने फॉर्म में एक बड़ा बदलाव किया है। इस फॉर्म में स्रोत पर कर कटौती (TDS) का ब्योरा होता है और स्रोत पर संग्रह (TCS) के बारे में जानकारी होती है। अब इस फॉर्म में सपत्ति और शयेर लेनदेन की सूचना को भी शामिल कर दिया है।

CBDT ने कहा है कि फॉर्म 26AS को नया रूप दिया गया है। अब इस फॉर्म में टीडीएस और टीसीएस के अलावा वित्तीय लेनदेन, करों के भुगतान और करदाता द्वारा वित्त वर्ष में डिमांड-रिफंड से जुडी प्रक्रिया की सूचनाओं को शामिल किया गया है। अब ये बदलाव 1 जून से प्रभावी हो जाएगा।

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल यानी आईटीआर करने से पहले सबसे पहला दस्तावेज जिसे वैरिफाई करने की आवश्यकता है। उस फॉर्म को 26एएस कहते हैं।

बता दें कि 26एएस सालाना टैक्स स्टेटमेंट फॉर्म होता है। आपकी ओर से सरकार को दिए गए टैक्सी से जुड़ी जानकारियां इस फॉर्म में होती है। यदि किसी वित्त वर्ष में आपको आयकर रिफंड मिलता है तो इस फॉर्म में उस बारे में डिटेल होती है। यानी आप अपनी आमदनी और टैक्स के बारे में फॉर्म 26AS से सही जानकारी के बारे में अवगत हो सकते हैं।

सरकार ने अब इस फॉर्म में नया बदलाव किया है जिसका मतलब है कि आपकी संपत्ति और शेयर लेनदेन की सूचना भी इस फॉर्म में दी जाएगी। इस फॉर्म से आपको कई सूचनाओं के बारे में जानकारी मिल सकेगी और साझा करनी होगी। इस फॉर्म को incometaxindiaefiling.gov.in लिंक पर विजिट कर डाउनलोड कर सकते हैं।

Read More….
देश के कई हिस्सों में आज होगी बारिश! 1 जून तक हो सकती है मानसून की दस्तक…
लॉकडाउन: आम आदमी को लग सकता है झटका, 5 रुपये तक मंहगा हो सकता है पेट्रोल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here