कैंसर की बीमारी बच्चों के जीवन में भी फैला रही है बहुत तेज़ी से पैर , हर साल 3 लाख से ज्यादा बच्चे होते हैं शिकार

कैंसर की बीमारी बहुत ही गंभीर बीमारी है हम सभी यह बात जानते हैं की की यह बीमारी जानलेवा बीमारियों में से एक है । यह बीमारी किसी को भी नहीं बख्श रही है ना महिलाओं न ही बच्चों को न ही पुरुषों को ।

0
46

 

जयपुर । कैंसर की बीमारी बहुत ही गंभीर बीमारी है हम सभी यह बात जानते हैं की की यह बीमारी जानलेवा बीमारियों में से एक है । यह बीमारी किसी को भी नहीं बख्श रही है ना महिलाओं न ही बच्चों को न ही पुरुषों को । बहुत ही कम लोग यअः बात जानते हैं की बच्चे इस बीमारी का शिकार बहुत तेज़ी से हो रहे हैं ।

आज हम आपको इसी से जुड़ी कुछ खास जानकारी देने जा रहे हैं। आपको यह बात जानकार बहुत ही हैरानी होगी की हर साल लगभग 3 लाख बच्चे कैंसर की बीमारी के शिकार हो जाते हैं । दुनिया के लिए खतरे की घंटी है। हर साल करीब 3 लाख बच्चे इस जानलेवा बीमारी की चपेट में आते हैं, जिनमें से 78 हजार से ज्यादा अकेले भारत में हैं। विकसित देशों में जहां लगभग 80 प्रतिशत कैंसर पीड़ित बच्चे ठीक हो जाते हैं वहीं भारत में डॉक्टर कैंसर पीड़ित केवल 30 प्रतिशत बच्चों को ही बचा पाते हैं।

अक्यूट लिम्फोब्लास्टिक ल्यूकेमिया, ब्रेन ट्यूमर, होज्किन्ज़ लिम्फोमा, साकोर्मा और एंब्रायोनल ट्यूमर सिर्फ मुश्किल शब्द ही नहीं बल्कि बच्चों को मुश्किल में डाल देने वाले जानलेवा कैंसर के प्रकार हैं, जो बड़ी खामोशी से हंसते खेलते बच्चे को मौत के मुंह तक पहुंचा देते हैं। हालांकि डाक्टरों की यह बात राहत दे सकती है कि जरा सा ध्यान देने से और समय रहते कैंसर का पता चल जाने से ज्यादातर मामलों में इसे ठीक किया जा सकता है।

माता-पिता को कैंसर से जुड़े प्रारंभिक लक्षणों की जानकारी रखनी चाहिए और बच्चे का शारीरिक-मानसिक विकास सामान्य रूप से न हो रहा हो, कम वजन होने लगे, अचानक रक्त स्राव हो या शरीर के किसी हिस्से में गांठ उभरने लगे तो सचेत हो जाएं। साथ ही बीमारियों की फैमिली हिस्ट्री पर नज़र रखें, क्योंकि ल्यूकेमिया और ब्रेन ट्यूमर आदि जैसे कैंसर अनुवांशिक कारणों से भी हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here