मध्य प्रदेश: क्या विधानसभा उपचुनाव बताएंगे राज्य में राजनीति का भविष्य?

0
215

राजस्थान में इसी महीने आए लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों के रिज़ल्ट में भाजपा को झटका लगा था। अजमेर और अलवर विधानसभा और इसके बाद मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था। इस जीत का ज़्यादातर श्रेय कांग्रेस के राजस्थान अध्यक्ष सचिन पायलट को दिया गया था।

अब ऐसे ही दो विधानसभा की सीटों पर मध्यप्रदेश में उपचुनाव होने हैं। मध्यप्रदेश के दो विधानसभा क्षेत्र मुंगावली एवं कोलारस में उपचुनाव के लिए मतदान 24 फरवरी को होना है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया दोनों के लिए ये चुनाव प्रतिष्ठा का विषय हो गया है।

भाजपा के राज्य के शीर्ष नेताओं ने लगाया दम

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में अपने सारे शीर्ष नेताओं को चुनाव प्रचार में लगा दिया है। यहां तक कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की सभाओं को रोकने के लिए भाजपा के राज्य मंत्री जालम सिंह पटेल के स्वागत मंच पर बार बालाओं का डांस तक करवा दिया गया। कोलारस में भाजपा उम्मीदवार देवेंद्र जैन हैं। जैन इस क्षेत्र से विधायक रह चुके हैं। पिछले विधानसभा चुनाव वे राम सिंह यादव से हार गए थे। राम सिंह यादव के निधन के कारण ही उपचुनाव हो रहा है। इस क्षेत्र में दलित वोटों को साधने के लिए राज्य मंत्री लाल सिंह आर्य, यादव वोटों को साधने के लिए ललिता यादव, ब्राह्मण वोटों को साधने के लिए नरोत्तम मिश्रा, कुशवाहा के लिए मंत्री नारायण सिंह कुशवाहा, लोधी वोटों के लिए जालम सिंह पटेल, वैश्य वोटरों के लिए राजस्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, गुर्जर समुदाय के लिए स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह और ठाकुर वोटों के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर सक्रिय हैं।

शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल की वरिष्ठ सदस्य खेल एवं युवक कल्याण मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया को भाजपा ने गांव में लगा दिया है। यशोधरा के लिए भाजपा ने हेलीकॉप्टर तक भी उपलब्ध करवा दिये हैं। यशोधरा का इस्तेमाल भाजपा सीधे ज्योतिरादित्य सिंधिया को घेरने के लिए कर रही है।

लेकिन भाजपा ने यहां पर एक गलती कर दी। कोलारस में हुई बार बालाओं की डांस भाजपा के लिए फांस बन गई है। बार बालाओं का डांस कुटवारा गांव में हुआ था। बार बालाओं की इस डांस में मंच पर मोदी और अमित शाह का पोस्टर भी लगा हुआ था। इसपर विपक्ष ने राजनीति भी शुरु कर दी है।

कांग्रेस के लिए सेमीफाइनल की तरह उपचुनाव

ये दोनों विधानसभा सीट कांग्रेसी नेता ज्यातिरादित्य सिंधिया की संसदीय सीट के अंतर्गत आती है। इस वजह से सिंधिया का ये उपचुनाव कांग्रेस को जितवाना एक बहुत बड़ा टास्क है। क्षेत्र में पिछड़े वर्ग के मतदाताओं की संख्या सबसे ज़्यादा है, इसको देखते हुए कांग्रेस ने उम्मीदवार भी खड़ा किया है। कोलारस से कांग्रेस के उम्मीदवार महेंद्र यादव हैं। जबकि मुंगावली में ब्रजेन्द्र सिंह कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। मुंगावली में यादव वर्ग की ही बाई साहब को भारतीय जनता पार्टी ने उम्मीदवार बनाया है। ज्यातिरादित्य सिंधिया दोनों विधानसभा क्षेत्रों में कई समय से चुनाव प्रचार कर रहे हैं। सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी अलग-अलग वर्ग के लोगों को प्रचार के लिए लगा रखा है। गोविंद राजपूत मुंगावली में प्रचार की कमान संभाले हुए हैं। राजपूत सागर जिले के रहने वाले हैं। कोलारस में चुनाव प्रचार की कमान पूर्व विधायक राजेंद्र भारती के हाथ में है। वो उज्जैन से आए हैं। इसी तरह इंदौर से तुलसी सिंलावट, ग्वालियर से प्रद्युम्मन तोमर, डबरा की विधायक इमरती देवी रायसेन से पूर्व विधायक प्रभुराम चौधरी प्रबंधन संभाले हुए हैं।

हालांकि अभी सिंधिया को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाया नहीं गया है, लेकिन सिंधिया को ही उम्मीदवार माना जा रहा है। इस वजह से सिंधिया की मेहनत भी देखने को मिल रही है। सिंधिया राज्य में जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं। जहां पर विधानसभा चुनाव होने हैं, वहां पर कांग्रेस के दिग्विजय सिंह का भी दबदबा है। माना जा रहा है कि सिंह ने अपने समर्थकों को कहा है कि वो ज़्यादा से ज़्यादा कांग्रेस के पक्ष में मतदान कराने के लिए काम करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here