सरकार के 1.45 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्साहन से कारोबारी जगत में खुशी

0
76
FIAT President and Managing Director Nagesh Basavanhalli during a press conference to launch Absolute editions- of the Linea and Punto in Kolkata on Dec.3, 2013. (Photo: IANS)

सरकार द्वारा शुक्रवार को कार्पोरेट्स को दिए गए 1,45,000 करोड़ रुपये के प्रोत्साहन से भारतीय कारोबारी जगत में खुशी की लहर दौड़ गई। इसके तहत घरेलू कंपनियों के लिए कॉर्पोरेट कर को घटाकर 22 फीसदी कर दिया गया है तथा नए विनिर्माण कंपनियों के लिए कर की दर को घटाकर 15 फीसदी कर दिया गया है, ताकि पूंजी बाजार को बढ़ावा मिले। ग्रेव्स कॉटन लि. के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी नागेश बसावनहल्ली ने कहा, “हम कार्पोरेट कर में कटौती करने, 5 जुलाई से पहले घोषित बायबैक पर सरचार्ज हटाने और सीएसआर (कॉपोरेट्स की सामाजिक जिम्मेदारी) खर्च के दायरे को बढ़ाने के वित्त मंत्री के प्रस्ताव का स्वागत करते हैं। ”

यह मोदी 2.0 सरकार की सबसे बड़ी प्रोत्साहन पहल है, जिससे मंदी से जूझ रही अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा, जो वित्त वर्ष 2019-20 की अप्रैल-जून तिमाही में 6 साल के सबसे निचले विकास दर 5 फीसदी पर पहुंच गई थी।

वेदांता र्सिोसेज के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि सरकार के इस कदम से विनिर्माण और अवसंरचना क्षेत्र को निश्चित रूप से बड़ा बढ़ावा मिलेगा।

उन्होंने कहा, “हमें भरोसा है कि इस कदम से आनेवाले दिनों में आर्थिक विकास को बढ़ावा मिलेगा, जिससे जीडीपी अपनी वास्तविक क्षमता 8-9 फीसदी की रफ्तार पकड़ सकेगी।”

नए कदमों से बाजार की भावना में सुधार की संभावना है जो आम बजट में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआईज) पर लगाएगे गए सरचार्ज से बिगड़ गई थी।

कॉर्पोरेट कर में कटौती, सरचार्ज हटाने और अन्य छूट देने से निवेशकों का भरोसा शेयर बाजार में लौटा और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में जोरदार तेजी दर्ज की गई।

उद्योग निकाय एसोचैम के वरिष्ठ उपाध्यक्ष निरंजन हीरानंदानी ने कहा, “निश्चित रूप से भारतीय कारोबारी जगत को इससे प्रोत्साहन मिलेगा, जिससे मरती जा रही अर्थव्यवस्था में वापस जान लौटेगी। लेकिन हमें यह भी उम्मीद है कि सरकार द्वारा जल्द ही अमीर लोगों पर लगाए गए 42 फीसदी की कर की दर को तर्कसंगत बनाकर 35 फीसदी किया जाएगा।”

आईआईएफएल समूह के अध्यक्ष निर्मल जैन ने कहा, “वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा घोषित 1.45 लाख करोड़ रुपये की प्रोत्साहन राशि से निश्चित रूप से अर्थव्यवस्था और बाजार में तेजी आएगी। इसके साथ ही इससे हम सरल और कम दर के शासन की तरफ कदम बढ़ाएंगे, जहां काफी कम या शून्य प्रोत्साहन या छूट होगी (क्योंकि इसका दुरुपयोग ज्यादा होता है)।”

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस


SHARE
Previous articleयूपी में विकास की रफ्तार बढ़ी, मगर साइकिल वहीं खड़ी : श्रीकांत शर्मा
Next articleक्या अब लोगों की नौकरीयां जाना बंद हो जायेंगी?
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here