बीएसएनएल निकाल रही है मुशीबत से निकलने का रास्ता

0
147

जयपुर। हमने आपको पहले ही बताया था कि भारत संचार निगम लिमिटेड के 57,000 से अधिक कर्मचारी पहले ही स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना का लाभ उठाने के लिए तैयार हैं। राज्य के स्वामित्व वाली MTNL के साथ संयुक्त जब आंकड़े 60,000 से अधिक हो जाते हैं।कुल मिलाकर, लगभग एक लाख बीएसएनएल कर्मचारी अपने कुल कर्मचारियों की संख्या से लगभग 1.5 लाख की संख्या में वीआरएस के लिए पात्र हैं। वीआरएस के लिए बीएसएनएल का आंतरिक लक्ष्य 77,000 कर्मचारियों का है।

आपको बता दें कि अब वीआरएस लेने वाले लोगों की संख्या 70000 तक पहुंच गई है वो भी एक हफ्ते से भी कम समय में ऐसे में बीएसएनएल के मुताबिक सब ठीक हो रहा है।

बीएसएनएल वेतन बिल में  7,000 करोड़ की बचत देख रहा है, अगर 70,000-80,000 कर्मचारी योजना का विकल्प चुनते हैं। मंत्रिमंडल ने पिछले महीने बीएसएनएल और एमटीएनएल के लिए 69,000 करोड़ के पुनरुद्धार पैकेज को मंजूरी दी, जिसमें अपनी संपत्ति का मुद्रीकरण करना और कर्मचारियों को वीआरएस देना शामिल है। दोनों ऑपरेटरों का विलय भी किया जाएगा यह भी इसी का हिस्सा है।

गौरतलब है कि 53.5 वर्ष से अधिक आयु के कर्मचारियों को उनके वेतन का 125 प्रतिशत मिलेगा, जो वे अपनी सेवा की शेष अवधि में कमा सकते थे। वीआरएस लेने के लिए 50 से 53.5 वर्ष के आयु वर्ग के कर्मचारियों को उनकी सेवा की शेष अवधि में भुगतान किए जाने वाले पारिश्रमिक का 80 से 100 प्रतिशत तक लाभ मिलेगा। वीआरएस के लिए 55 वर्ष से अधिक आयु के कर्मचारियों के लिए, पेंशन तभी शुरू की जाएगी जब वे 60 वर्ष की आयु प्राप्त कर लेंगे।

बीएसएनएल इस समस्या को निपटाने पर अब पूरी तरह से उतारू है लेकिन बडी बात ये है कि अब बीएसएनएल का आगे क्या होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here