Boxing : मनीष, हसमुद्दीन बोक्सम टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंचे

0

विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता मनीष कौशिक (63 किग्रा) और राष्ट्रमंडल खेलों के कांस्य पदक विजेता मोहम्मद हसमुद्दीन (57 किग्रा) ने यहां जारी बोक्सम इंटरनेशल बॉक्सिंग टूर्नामेंट में विजयी अभियान जारी रखते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली। मनीष ने 63 किग्रा लाइटवेल्टरवेट के अपने शुरूआती राउंड में स्पेन के राडौने अमारी को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से हरा कर अगले दौर में प्रवेश किया।

हसमुद्दीन ने 57 किग्रा के अपने शुरुआती राउंड के मुकाबले में स्पेन के जुआन मैनुअल टॉरेस को 4-1 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। क्वार्टर फाइनल में हसमुद्दीन का सामना इटली के सिमोन स्पेदा से होगा।

क्वार्टर फाइनल में अब मनीष का सामना गुरुवार को दो बार के एएसबीसी एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता कजाकिस्तान के मुक्केबाज सूफीउलीन जाकिर से होगा। जाकिर ने अपने शुरुआती दौर के मुकाबले में मोरक्को के अब्देलहाक नादिर को 3-1 से हराया।

मनीष और हसमुद्दीन के अलावा छह बार की विश्व चैंपियन एमसी मैरी कॉम और विश्व चैंपियनशिप के रजत पदक विजेता अमित पंघाल (52 किग्रा) भी टूर्नामेंट में अपने पदक पक्के करने से मात्र एक जीत दूर हैं।

मैरी कॉम बुधवार को अपना पहला मुकाबला खेलेंगी। मैरी कॉम से सीधे क्वार्टर फाइनल से अपने अभियान की शुरुआत करेंगी, जहां उन्हें 51 किग्रा के फ़्लाइटवेट वर्ग में इटली की गियोरडना सोरेंटिनो से भिड़ना है।

पुरुष वर्ग में पंघाल क्वार्टर फाइनल में स्थानीय खिलाड़ी गैब्रियल एस्कोबार से भिड़ेंगे। मैरी कॉम और पंघाल को पहले राउंड के बाउट में बाई मिला है।

मैरी कॉम सहित 12 भारतीय (छह पुरुष और छह महिलाएं) अंतिम -8 में अपने अभियान की शुरुआत करेंगे। इस टूर्नामेंट में 14 सदस्यीय भारतीय दल भाग ले रहे हैं। इनमें नौ भारतीय मुक्केबाज ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं।

इस उच्चस्तरीय टूर्नामेंट में 19 शीर्ष देशों के मुक्केबाज उतरेंगे। भारतीय टीम में आठ पुरुष और छह महिला मुक्केबाज शामिल हैं। युवा मुक्केबाज जैसमीन भी इस टीम में है और यह उनका पहला सीनियर दौरा है। जैसमीन 57 किग्रा वर्ग में उतरेंगी।

पुरुष वर्ग में कॉमनवेल्थ गेम्स के स्वर्ण पदक विजेता विकास कृष्णन (69 किग्रा) और सतीश कुमार (91 प्लस किग्रा वर्ग) हैं। महिलाओं में पंजाब की सिमरनजीत कौर (60 किग्रा), असम की लोवलिना बोरगेहिन (69 किग्रा) और हरियाणा की पूजा रानी (75 किग्रा) हैं।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleActress Kritika Kamra ने इंस्टाग्राम पर अपने डैड को विश किया
Next articleअनुराग कश्यप, तापसी, विकास बहल के परिसरों पर Raid
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here