समाजवादी पार्टी के नेता की पत्नी का शव बरामद

0

उत्तर प्रदेश पुलिस ने शुक्रवार को कथित रूप से हत्या कर पानी में फेंके गए समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता की पत्नी का शव बरामद कर लिया है। हालांकि, सपा नेता का शव न मिलने से उनके डूब जाने का रहस्य अभी भी बरकरार है। बरुआ बांध से गोताखोरों ने दिनभर की मशक्कत के बाद शाम को कथित रूप से हत्या कर फेंके गए सपा नेता की पत्नी का शव खोज निकाला।

पुलिस के अनुसार, 32 वर्षीय भरत दिवाकर और उनकी पत्नी की हत्या कथित तौर पर 14 जनवरी की रात उस वक्त कर दी गई थी, जब वे एक समारोह से वापस लौट रहे थे। शव को एक बोरे में डालकर बांध में फेंक गया था। वारदात के बाद से सपा नेता की कोई जानकारी नहीं मिल पाई है, वहीं गुरुवार को उनकी पत्नी का शव बरामद कर लिया गया।

स्थानीय सपा नेता भरत दिवाकर बरुआ बांध में मछली पकड़ने का ठेका लेते थे। दिवाकर के मत्स्य पालन कारोबार में कार्यरत ड्राइवर राम सेवक निषाद से पुलिस ने पूछताछ की।

राम सेवक ने पुलिस के सामने यह बात स्वीकार करते हुए कहा कि सपा नेता दिवाकर ने अपनी पत्नी नमिता की मंगलवार रात हत्या की और उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए बांध लेकर आया। राम सेवक ने भी इस दौरान दिवाकर की मदद करने की बात कबूल की है।

दिवाकर ने आगे कहा कि उसने शव को बोरे में बंद करने में दिवाकर की मदद की और उसे एक बोल्डर से बांध दिया, ताकि वह डूब जाए। वे शव को ठिकाने लगाने के लिए नाव में बैठकर पानी के बीच गए, लेकिन नाव पलट गई।

राम सेवक ने दावा किया कि दिवाकर पानी में डूब गए और वह पानी में तैरकर वापस आ गया।

शवों को तलाशने के लिए एसडीआरएफ के कर्मी तैनात किए गए, और गुरुवार को नमिता का शव मिल गया। लेकिन नेता की कोई जानकारी नहीं है। पुलिस ने महिला की चप्पलों के साथ बांध के पास खड़ी दिवाकर की छोड़ी गई एसयूवी भी बरामद की है।

एसपी चित्रकूट अंकित मित्तल ने कहा कि नमिता के माता-पिता की शिकायत पर दिवाकर के खिलाफ भरतकोप पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज किया गया है। राम सेवक से भी पूछताछ की जा रही है।

उन्होंने आगे कहा, “हम दिवाकर के शव को खोजने का प्रयास कर रहे हैं। साथ ही अन्य तथ्यों को इकट्ठा किया जा रहा है। मौत के कारणों का पता लगाने के लिए महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। हम राम सेवक की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं, जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleटेनिस : होबार्ट इंटरनेशनल के महिला युगल फाइनल में सानिया
Next articleराजकोट वनडे : आस्ट्रेलिया ने टॉस जीत भारत को दी बल्लेबाजी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here