उत्तर प्रदेश में भाजपा के बूथ स्तर के चुनाव 11 सितंबर से

0

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के चुनाव 11 सितंबर से होंगे। इसके बाद 11 अक्टूबर से मंडल और 11 नवंबर से जिले के चुनाव होंगे। इस बड़े चुनाव से पहले बूथ और सेक्टरों का परिसीमन होगा। लखनऊ में हुई भाजपा पदाधिकारियों की बैठक में संगठनात्मक चुनाव की तारीखें तय कर दी गई हैं। प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य की अध्यक्षता में परिसीमन आयोग गठित किया गया है।

भाजपा संगठन के प्रदेश महामंत्री सुनील बंसल ने बताया कि 1 सितंबर से सांगठनिक चुनाव प्रक्रिया शुरू होगी, जिसमें 11 सितंबर को बूथ, 11 अक्टूबर को मंडल, 11 नवंबर को जिला। इन तरीखों से 15 दिनों में प्रदेश में चुनाव प्रक्रिया पूरी करते हुए 5 दिनों में बूथ, 2 दिनों में मंडल, 1 दिन में जिले के चुनाव होंगे। इस प्रकार भाजपा के कुल 94 जिले, 1920 मंडल, 1 लाख 63 हजार बूथ के चुनाव होंगे।

भाजपा के संगठन चुनाव को लेकर शनिवार को प्रदेश भाजपा मुख्यालय में बैठक हुई, जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के राष्ट्रीय निर्वाचन अधिकारी राधा मोहन सिंह और प्रदेश पदाधिकारी मौजूद थे।

प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक के बाद राष्ट्रीय संगठन चुनाव के प्रभारी पूर्व केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह की अध्यक्षता में जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी, सदस्यता प्रमुख तथा जिलों के चुनाव अधिकारियों की एक कार्यशाला हुई।

राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी राधा मोहन ने कहा कि उत्तर प्रदेश ने अच्छी रणनीति पर कार्य करते हुए देश में सर्वाधिक सदस्यता कराई है। एक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करते हुए प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह और कुशल संगठक के रूप में सुनील बंसल जैसे महामंत्री संगठन ने आपके प्रदेश को पूरे भारत में अग्रणी रखा है यह गौरव की बात है। 15 दिसंबर तक राज्यों के चुनाव पूरा करने का लक्ष्य है। उसके बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होगा।

उन्होंने कहा, “प्रदेश में अब तक लगभग 1 करोड़ 55 लाख पार्टी के सदस्य बन चुके हैं, जिसमें 54 लाख नए सदस्य हैं। चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन करते हुए भाजपा बूथ से लेकर राष्ट्रीय चुनाव लोकतांत्रिक प्रक्रिया से कराती है। 20 प्रतिशत से अधिक सदस्यता के लक्ष्य के साथ हम सदस्यता कराते हैं तथा हर समिति में लगभग 40 प्रतिशत नए सदस्य के चुनाव के साथ-2 नए नेतृत्व को पहचान मिलती है। हम एक चुनौती के रूप में संगठन का निर्माण करते हैं।”

स्वतंत्रदेव ने कहा, “प्रदेश भाजपा को आशुतोष टंडन के रूप में एक कुशल संगठक चुनाव अधिकारी मिला है। हम यह संगठन चुनाव 2022 के विधानसभा चुनाव को दृष्टि में रखते हुए कराएंगे। अच्छे कार्यकर्ताओं को हमें आगे लाना चाहिए।”

बैठक में परिसीमन समिति भी घोषित हुई, जिसमें प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य के नेतृत्व में सांसद विजय पाल तोमर, प्रदेश महामंत्री विजय बहादुर पाठक एवं अरुणकांत त्रिपाठी 22 अगस्त तक प्रदेश के सभी मंडलों व सेक्टरों का परिसीमन कर घोषित करेंगे। बैठक में आज सभी जिलों के चुनाव अधिकारी एवं सह चुनाव अधिकारी की घोषणा हुई। 25 से 31 अगस्त तक सभी जिलों की बैठकें होंगी। एक से 5 सितंबर तक सभी मंडलों में बैठकें होंगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleइमरान भारत के साथ बातचीत कर तनाव घटाएं : डोनाल्ड ट्रंप
Next articleसेक्स ट्रैफिकर जेफरी एपस्टीन ने आत्महत्या की थी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here