भाजपा की नजर अब सपा और बसपा के वोटबैंक पर

0
65

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अब सपा और बसपा के वोट बैंक पर कब्जा जमाने के साथ उनके गढ़ को भी छीनने के फिराक में है। इसकी बानगी अभी हाल में हुए चुनावों और मंत्रिमंडल विस्तार में देखने को मिल रही है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश कभी बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की मुखिया मायावती का गढ़ माना जाता रहा है। बसपा सुप्रीमो मायावती बिजनौर जिले से सबसे पहले चुनाव जीतकर सांसद बनी थीं। वह यहां से पश्चिमी यूपी की सियासत को प्रभावित करती रही हैं। वर्तमान में उनके चार सांसद भी पश्चिमी उप्र से ही हैं। यहां पर बसपा के काफी विधायक सांसद चुनाव जीतते रहे हैं। 2014 के बाद से भाजपा उनके वोट बैंक पर काबिज होने लगी और दलितों को अपनी ओर आकर्षित करने लगी है। यहां के कई बड़े नेता अब भाजपा में हैं।

भारतीय जनता पार्टी ने 2014 के चुनाव के पहले ही दलितों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए अनेक प्रकार के कार्ड खेले थे और उन्हें सफलता मिली थी। दोबारा सरकार बनने से पहले भी उन्होंने एक बाजी चली। इस बार उन्होंने कभी बसपा का गढ़ रहे आगरा से अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखने वाली आगरा की बेबीरानी मौर्या को उत्तराखंड का राज्यपाल बनाकर यह संदेश देने की कोशिश की कि भाजपा दलितों की सबसे बड़ी हितैषी है। इसी प्रकार आगरा से रामशंकर कठेरिया को पहले केंद्रीय राज्यमंत्री फिर अनुसूचित जनजाति आयोग का अध्यक्ष बना रखा है।

इसके अलावा सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के क्षेत्र इटावा, मैनपुरी, फिरोजबाद में भी पिछड़ा कार्ड खेलकर इनके वोट बैंक के साथ इनके गढ़ पर भाजपा काबिज हो गई। उसका नतीजा रहा कि इस बार के लोकसभा चुनाव में सैफई परिवार को मायूस होना पड़ा है। अब भाजपा ने पश्चिमी उप्र से उनके बड़े नेताओं को अपने पाले में लाकर सपा की ताकत को कमजोर कर दिया है।

वर्ष 2017 के चुनाव में भाजपा ने उत्तर प्रदेश में प्रचंड बहुमत हासिल किया था। इस चुनाव में उसने गैर यादव पिछड़ों और गैर जाटव दलितों को तवज्जो दी थी। इसके लिए चुनाव मैदान में उसने मुख्य रूप से पिछड़े और दलितों पर ही दांव लगाया था। इस बार मंत्रिमंडल में भी उन्हें शामिल कर वर्ष 2022 के लिए बिसात बिछाने की कोशिश की है।

भाजपा सरकार द्वारा पार्टी ने मंत्रिमंडल में जो 18 नए चेहरे शामिल किए हैं, उनमें कमोबेश वैसा ही जातीय समीकरण देखने को मिला है, जैसा वर्ष 2017 में मंत्रिमंडल गठन के वक्त था। पार्टी ने सबसे ज्यादा पिछड़ों और युवाओं के साथ दलितों पर ही भरोसा किया है। मंत्रिमंडल में शामिल 18 चेहरों में 8 पिछड़ी जातियों से है।

नए शामिल हुए चेहरों में तीन दलितों के रूप में कानपुर नगर से कमल रानी वरुण, आगरा कैंट से डा़ॅ गिरिराज सिंह, धर्मेश और संत कबीरनगर के घनघटा से विधायक श्रीराम चौहान प्रमुख हैं। पार्टी ने दलितों को शामिल कर यह संदेश देने की कोशिश की है कि वह वास्तव में ‘सबका साथ सबका विकास’ के मंत्र पर काम कर रही है। पार्टी ने कुछ इसी तर्ज पर वर्ष 2017 में 19 मार्च को हुए मंत्रिमंडल के गठन में भी पांच दलितों के साथ 13 ओबीसी मंत्रियों को शपथ दिलाई थी। इस बार भी ओबीसी व दलित सबसे ज्यादा हैं।

56 सदस्यीय मंत्रिमंडल में 19 पिछड़े और सात अनुसूचित जाति के लोगों को मंत्री बनाकर भाजपा ने पिछड़े और दलितों की हितैषी बताने का संदेश दिया है। पहली बार गुजर, गड़रिया, जाटव और कहारों को प्रतिनिधित्व देकर सबको खुश करने का प्रयास किया है।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक रतनमणि लाल ने बताया कि 2017 से मिली की जीत के बाद से ही समझ आ गया है। समर्थन देने वाले वोटरों में वे लोग थे जो सपा बसपा से असंतुष्ट थे। वोट बैंक में वह शामिल थे, जिन्हें लगा था कि सपा बसपा सरकार में उनके साथ न्याय नहीं हुआ। दोनों के वोट बैंक ने भाजपा को समर्थन दिया है।

उन्होंने बताया कि सपा-बसपा का वोटर समझने लगा है कि मोदी जैसे नेता जिस दल के पास हो, उसके सारे काम हो सकते हैं। भाजपा ने सबसे पहले बसपा का वोट बैंक तोड़ा, इसलिए 2014 में उसे एक भी सीट नहीं मिली। फिर सपा ने बसपा के साथ 2019 लोकसभा चुनाव में गठबंधन किया, जिसका नतीजा रहा कि उन्हें 2019 में भी सफलता नहीं मिली है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इन दोनों पर्टियों का वोट बैंक भाजपा की ओर खिसक गया है।

उन्होंने बताया कि भाजपा ने दूसरे दलों की विश्वसनीयता खत्म कर दी है। भाजपा धीरे-धीरे उनके सामजिक वर्गो और वोट बैंक को अपनी ओर आकर्षित कर रही है।

पूर्वाचल शुरू से ही भाजपा के प्रति नर्म रहा है। पहले से ही योगी और धार्मिक संस्कृति भी भाजपा की ओर आकर्षित करती रही है। अयोध्या, बनारस, प्रयाग जैसे धार्मिक इलाके उधर ही हैं और उधर के वोटर भाजपा के साथ मेल भी खाते रहे हैं। उसके उलट पश्चिमी क्षेत्र में मुस्लिम बहुल मेरठ, मुरादाबाद, सहारनपुर हैं। इसलिए पूर्व के प्रति वह पहले से आश्वस्त थे। इसीलिए इस बार पश्चिमी क्षेत्र से कद्दावर मंत्री और संगठन में इनकी बहुलता को बढ़ाया गया है। इससे यह संदेश देने का प्रयास किया गया है कि पश्चिमी उप्र का विकास भाजपा राज में ही होगा।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ़ चंद्रमोहन ने कहा, “भाजपा ‘साथ आएं, देश बनाएं’ के संकल्प पर कार्य करती है। हम पूरे प्रदेश को एक मानते हैं। सपा, बसपा अपने कुकर्मो के कारण खत्म हो रहे हैं। अखिलेश मायावती विपक्ष की ठीक से भूमिका भी नहीं अदा कर पा रहे हैं। उप्र के विकास में जो सहायक होते हैं, उन्हें भाजपा आगे बढ़ाती है। सभी वर्ग के प्रतिनिधियों की बराबर की भागीदारी रहती है।”

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस


SHARE
Previous articleटीम इंडिया को मिला नया बैटिंग कोच, अब ये दिग्गज विराट सेना को सिखाएगा बल्लेबाज़ी के गुर
Next articleजन्माष्टमी पर धन, सुख-संपदा और ऐश्वर्य चाहिए तो जुरुर करें श्री कनकधारा स्तोत्र का पाठ
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here