बिरयानी को सुगंधित बनाने वाले चीज़ों से कैंसर का होगा खात्मा

0
51

जयपुर। भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बार्क) के वैज्ञानिकों ने हाल ही में एक ऐसी खोज की है जिसका कभी अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता है। जी हां बिरयानी से कैंसर का इलाज किया जा सकता है। वैज्ञानिकों ने कैंसर जैसे घातक रोगी की दवा विकसित करने में कामयाबी हासिल कर ली है। इस खोज की खास बात यह है कि इस दवा को बनाने में बिरयानी जैसे ज़ायकेदार व्यंजन का इस्तेमाल किया गया है। आपको बता दे कि बार्क के वैज्ञानिकों ने बिरयानी में सुगंध के तौर पर प्रयोग की जाने वाली रामपत्री मसाले से यह दवा बनाने का दावा किया है।

आपको बता दे किका उपयोग बिरयानी में खुशबू बिखेरने के लिए खास तौर से किया जाता है। आपको जानकारी दे दे कि इससे पहले बार्क के वैज्ञानिकों ने कैंसर की कोबाल्ट थेरैपी उपचार के लिए भाभाट्रोन नामक मशीन भी बना चुके हैं। इस मशीन का प्रयोग दुनिया के कई देशों में कैंसर के इलाज में किया जा रहा है। जानकारी के लिए बताते दे कि देश के परमाणु कार्यक्रम के जनक एवं दूरदर्शी महान वैज्ञानिक होमी जहांगीर भाभा की याद में मुंबई में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बार्क) स्थापित किया गया था।

बार्क द्वारा खोजी गई कैंसर की दवा आने वाले समय में काफी महत्वपूर्ण साबित होगी। रामपत्री  भारत के पश्चिम तटीय क्षेत्र में पाई जाने वाली एक वनस्पति है। इस वनस्पति का वैज्ञानिक नाम मिरिस्टिका मालाबारिका है। इसकी पत्तियों को खास तौर पर पुलाव और बिरयानी में खुशबू फैलाने के लिए एक मसाले के रूप में किया जाता है। इससे बनी दवा का परीक्षण चूहों पर किया गया है, जो कि काफी सफल रहा है। वैज्ञानिकों ने बताया कि यह दवा फेफड़ों के कैंसर और बच्चों में होने वाले दुर्लभ कैंसर ‘रोब्लास्टोमा के इलाज में काफी असरदार सिद्ध हो सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here