Bihu 2019:आसाम को और ख़ास बनाता है यहाँ का यह फेस्टिवल

0
607

जयपुर| बिहू आसाम का एक ऐसा त्यौहार है जो इस जगह को और भी ख़ास बना देता है| यहाँ के लोगों की इस फेस्टिवल को मनाने का तरीका बहुत ही अलग और आकर्षक होता है और इस फेस्टिवल को देखने के लिए दूर देशों से भी लोग यहाँ पर आते हैं| जानते हैं इस फेस्टिवल के बारे में विस्तार से|

आपको बता दें कि यहाँ के लोग बिहू फेस्टिवल को मौसम की पहली फसल अपने देवता शबरायी को अर्पित करने के लिए मनाते हैं और इस फेस्टिवल को बहुत ही धूम धाम से गाने और यहाँ के ख़ास नृत्य के साथ मनाया जाता है| इस फेस्टिवल को मनाने के लिए यहाँ के लोग नाहा धो कर नए कपडे पहन कर तैयार हो जाते हैं और यहाँ की औरतें ख़ास तरह की साड़ियां पहन कर सुन्दर नृत्य प्रस्तुत करती हैं|

इस साल यह फेस्टिवल बैसाखी महीने की शुरुआत और नए वर्ष की शुरुआत के साथ 15 से 21 अप्रैल तक मनाया जायेगा| इस महीने में फसल कटाई, नए वर्ष और शादी ब्याह के शुभ मुहूर्त की शुरुआत होती है|

इस त्यौहार को मनाने की एक ख़ास बात यह भी है कि आसाम के लोग बैसाख महीने से ही अपने नए वर्ष की भी शुरुआत करते हैं और सात दिनों तक चलने वाले इस त्यौहार को यहाँ के लोग अलग ही रीति रिवाज़ों के साथ मनाते हैं| इस त्यौहार को बोहाग बिहू के नाम से भी जाना जाता है|

इस त्यौहार को मनाने का तरीका कुछ ऐसा है कि इसके पहले दिन यहाँ पर गाय का पूजन किया जाता है जिसमें उसे नदी में ले जाकर नहलाया जाता है और नहलाने के लिए यहाँ के लोग कच्ची हल्दी और कलई की दाल का इस्तेमाल करते हैं| गाय के आस पास से मच्छर भगाने के लिए औषधिक पौधे जलाये जाते हैं| इस त्यौहार के नृत्य और गायन को इसमें इस्तेमाल होने वाले ढोल, पेपा, बांसुरी और ताल की थाप इसे और मधुर और आकर्षक बना देती है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here