Bihar : सुशील मोदी ने भी तेजस्वी को बताया ‘जंगलराज का युवराज’, पूछे 5 सवाल

0

बिहार चुनाव को लेकर पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। इस बीच, भाजपा के नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को ‘जंगलराज का युवराज’ बताते हुए पांच सवाल पूछे हैं। उन्होंने कहा कि राजद की राजनीति पूरी तरह कालेधन की फंडिंग से चलती है।

मोदी ने कहा कि तेजस्वी ‘जंगलराज के युवराज’ आज न यह बता रहे हैं कि 10 लाख लोगों को एक झटके में नौकरी देने के लिए 58 हजार करोड़ रुपये कहां से लाएंगे, न वे यह बता पाए कि पटना में 7 लाख 66 हजार वर्गफीट कीमती भूमि पर ‘बिहार का सबसे बड़ा मॉल’ बनवाने के लिए 750 करोड़ रुपये कहां से लाए? उन्होंने कहा कि राजद की राजनीति पूरी तरह कालेधन की फंडिंग से चलती है।

मोदी ने तेजस्वी से पूछा कि “आप न मैट्रिक पास किए और न कोई व्यापार किया और न लाखों रुपये के पैकेज वाली कोई नौकरी ही की। इसके बावजूद इतना धन कहां से आया कि वे 15 मंजिला मॉल में 1,000 दुकानें, शॉपिंग मॉल्स, मल्टीप्लेक्स और फाइव स्टार होटल बनवा रहे थे?”

मोदी ने आगे कहा, “क्या यह सच नहीं कि पटना की जिस जमीन पर युवराज का ‘महा मॉल’ बन रहा था, उसे जंगलराज के राजा ने 2004 में रेल मंत्री बनते ही आईआरसीटीसी होटल घोटाला के जरिये हासिल किया था? वे जनता को बताएं कि मॉल को जांच के बाद ईडी ने क्यों जब्त कर निर्माण रोक दिया?”

मोदी ने कहा, “युवराज आज अगर चार्टर प्लेन में बर्थडे केक काट कर गरीबों की राजनीति कर रहे हैं, तो जनता को क्यों नहीं बताते कि उन्होंने मात्र 64 लाख रुपये में डिलाइट कंपनी के करोड़ों रुपये मूल्य के सारे शेयर कैसे अपने और माताजी के नाम कर 94 करोड़ रुपये बाजार मूल्य की जमीन हथिया ली थी? क्या वे फर्जीवाड़ा से गरीबी-बेरोजगारी दूर करने वाला मॉडल थोपना चाहते हैं?”

उल्लेखनीय है कि बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इशारों ही इशारों में तेजस्वी को ‘जंगलराज का युवराज’ बताया था।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous article100 वर्ष पुराने डीयू को कुलपति ने संकट में डाला : NDTF
Next articlejute bags में खाद्यान्न, चीनी की पैकेजिंग की अनिवार्यता को कैबिनेट की मंजूरी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here