बिहार : नीतीश ने मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन किया शिलान्यास

0
104

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को मधुबनी के रहिका प्रखंड के सौराठ में मिथिला चित्रकला संस्थान का उद्घाटन और मिथिला ललित संग्रहालय भवन का शिलान्यास किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह भवन वर्ष 2020 तक बनकर तैयार हो जाने की संभावना है। मुख्यमंत्री ने उद्घाटन कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मिथिला पेंटिंग के प्रति देश के ही नहीं, विदेश के लोगों का भी लगाव है। पेंटिंग की इस शैली को प्रकृति के करीब बताते हुए उन्होंने कहा, “मिथिला पेंटिंग के जो तीनों प्रारूप हैं, उसमें सभी समाज के लोग हैं। मिथिला कला को और विकसित करने के प्रयास किए जाएंगे।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि पटना हवाईअड्डे का विस्तारीकरण किया जा रहा है, लोगों को उसकी टर्मिनल बिल्डिंग के अंदर और बाहर मिथिला पेंटिंग की झलक देखने को मिलेगी। उन्होंने कहा कि पटना शहर में भी सभी सरकारी भवनों की दीवारों पर मधुबनी पेंटिंग कराई जा रही है।

उन्होंने जोर देकर कहा, “हमलोगों की मधुबनी पेंटिंग के प्रति बहुत श्रद्धा है, आप सबलोगों के सहयोग से इसे और आगे बढ़ाएंगे। देश का विकास तब तक नहीं होगा, जब तक बिहार का विकास नहीं होगा और बिहार का विकास तब तक नहीं होगा, जब तक मिथिला का विकास नहीं होगा।”

मिथिला चित्रकला संस्थान की औपचारिक शुरुआत करते हुए उन्होंने कहा कि इस समय 13 छात्र-छात्राओं का चयन किया गया, जिसमें 11 लड़कियां शामिल हैं। मिथिला चित्रकला संस्थान के लिए किराए पर एक भवन लेकर इन छात्र-छात्राओं को पढ़ाया जाएगा। इस संस्थान में पढ़ाने वाले आचार्य का चयन मिथिला पेंटिंग के क्षेत्र में सम्मानित लोगों के बीच से किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मिथिला चित्रकला संस्थान एवं मिथिला ललित संग्रहालय को पटना आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के साथ जोड़ा गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मिथिला चित्रकला के लिए दो तरह के कोर्स- सर्टिफिकेट कोर्स (6 माह) और डिग्री कोर्स चलाए जाएंगे। उन्होंने घोषणा करते हुए कहा कि सर्टिफिकेट कोर्स और डिग्री कोर्स करने वालों को आर्थिक सहायता भी दी जाएगी।

मुख्यमंत्री ने मिथिला को ज्ञान की भूमि बताते हुए कहा, “यहां के लोग खूब पढ़ें, तभी हम फिर से बिहार के गौरव को प्राप्त करने में कामयाब होंगे। हमारी प्राथमिकता सूची में मिथिला को आगे बढ़ाना भी शामिल है।”

इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत पाग, अंगवस्त्र, पुष्पगुच्छ, मखाने की बड़ी माला और मिथिला पेंटिंग भेंट कर किया गया।

कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव, कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा, पंचायती राज मंत्री कपिलदेव कामत और बिहार राज्य योजना परिषद के सदस्य संजय झा ने भी संबोधित किया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleऑडी इंडिया के सेल में आई 18 फीसदी की गिरावट, जानिए पिछले साल कितनी बेची गाड़ियां
Next articleजीएसटी छूट सीमा दोगुनी, केरल को आपदा उपकर लगाने की अनुमति
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here