बिहार : पूर्व DGP Gupteshwar ने थामा जदयू का ‘तीर’

0

बिहार के पूर्व महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय ने रविवार को मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर नीतीश कुमार की पार्टी सत्तारूढ़ जनता दल (युनाइटेड) की सदस्यता ग्रहण कर ली। पार्टी के अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई। इस मौके पर पार्टी के सांसद ललन सिंह और बिहार के मंत्री अशोक चौधरी भी मौजूद थे।

जदयू की सदस्यता ग्रहण करने और राजनीतिक पारी की शुरुआत करने के बाद पत्रकारों से बातचीत में पांडेय ने कहा कि राजनीति को वे ज्यादा नहीं जानते। उन्होंने कहा, “नीतीश कुमार हमारे नेता हैं, उनके और पार्टी की तरफ से जो आदेश मिलेगा उसका पालन करेंगे।”

बक्सर से चुनाव लड़ने के संबध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “पार्टी जो भी हमसे कहेगी वह करूंगा। अगर चुनाव लड़ने के लिए कहेगी तो चुनाव लड़ूंगा।”

पूर्व डीजीपी ने आगे कहा, “मुझे अभी पता भी नहीं है कि राजनीति क्या होती है। जो भी हमारे नेता का आदेश होगा, उसका पालन होगा।”

पांडेय इससे पहले मुख्यमंत्री आवास पहुंचे थे।

गौरतलब है कि शनिवार को पूर्व डीजीपी जदयू प्रदेश कार्यालय पहुंचे थे और मुख्यमंत्री से मिलकर वापस हो गए थे। उस समय उन्होंने पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने को लेकर कोई स्पष्ट बात नहीं की थी। उन्होंने सिर्फ कहा था कि वे मुख्यमंत्री को धन्यवाद देने आए थे।

बक्सर के रहने वाले पांडेय 22 सितंबर को डीजीपी की पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) ले ली थी। इसके बाद से ही उनके राजनीति में आने के संभावना थी, हालांकि वे इसे नकारते रहे थे।

पटना के रहने वाले फिल्म अभिनेता और सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पांडेय अपने बयानों को लेकर देशभर में खूब चर्चित हुए थे। कुछ दिनों बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में उन्हें उम्मीदवार बनाए जाने की संभावना है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIPL 2020: चेन्नई सुपर किंग्स ने मयंक अग्रवाल की धमाकेदार सेंचुरी के बाद खुद को ट्रोल किया
Next articleMaharashtra Political Updates: महाराष्ट्र में सियासी अटकलों पर बोले रामदास आठवले, BJP के साथ आना शिवसेना के लिए फायदेमंद
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here