बिहार : पितरों के मोक्ष के लिए अर्पित पिंड से बनेगी खाद

0
34

देश-विदेश में मोक्षस्थली के नाम से चर्चित बिहार के गया में पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष के लिए किए गए पिंडदान की सामग्री से अब खाद बनेगी। इसके लिए गया में विशेष रूप से पांच मशीनें मंगवाई गई हैं।

जिला प्रशासन का कहना है कि पिंडदान के लिए गया में पितृपक्ष मेलों में लोगों द्वारा किए गए पिंडदान की सामग्रियां अक्सर जहां-तहां फेंक दिया जाता था या नदी में प्रवाहित कर दिया जाता है, जिससे जल प्रदूषण होता है और क्षेत्र में गंदगी भी फैलती है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

ऐसी व्यवस्था पटना के पुनपुन नदी के किनारे भी की गई है। यहां पड़ने वाले पिंडदान सामग्री का पटना में ही खाद बनाया जाएगा।

गया के पितृपक्ष मेला-2019 का उद्घाटन बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने गुरुवार को किया था। पुनपुन में पटना नगर निगम, फुलवारीशरीफ और मसौढ़ी नगर परिषद के अधिकारियों को पिंड सामग्रियों को इकट्ठा कराने की जिम्मेदारी सौंपी गई है, जबकि गया में यह काम गया नगर निगम को सौंपा गया है।

पुनपुन से प्रत्येक दिन औसतन दो से तीन टन पिंडदान सामग्री निकलती है, जबकि गया में इसकी मात्रा कहीं अधिक होती है। हिंदू परंपरा के मुताबिक, गया में पिंडस्थानों पर पिंडदान के पहले पहला पिंड पुनपुन नदी के किनारे दिए जाने का प्रावधान है।

गया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने आईएएनएस को बताया कि गया में पिंड सामग्री से खाद बनाने के लिए विष्णुपद में तीन और अक्षयवट में दो ग्रीन कंपोस्टर लगाए गए हैं। इसकी क्षमता पांच सौ किलोग्राम की है। इसमें पांच क्विंटल कचरा और पिंड (आटा) डालने पर एक क्विंटल जैविक खाद बनेगी।

उन्होंने बताया कि पितृपक्ष के दौरान काफी मात्रा में पिंड व गीला कचरा निकलता है। इस वर्ष पिंडदान के लिए आठ लाख से ज्यादा लोगों के यहां आने का अनुमान है।

जिलाधिकारी ने कहा कि पिंड में आमतौर पर आटा, जौ, तिल, गुड़, चावल व फूल का प्रयोग किया जाता है। आमतौर पर एक स्थान पर पिंडदान करने के दौरान 16 पिंड दिए जाते हैं। ऐसे में बड़ी मात्रा में सामग्री यत्र-तत्र फेंके जाते थे। इससे गंदगी फैलती थी। अब इन पिंडों को प्रतिदिन एकत्र किया जाएगा और उससे खाद बनाए जाएंगे। खाद की पैकेजिंग की जिम्मेदारी नगर निगम को दिया गया है।

पटना में पुनपुन तट पर प्रतिदिन पूरे पितृपक्ष में पिंडदानियों की काफी भीड़ जुटती है।

पटना के कृषि विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि पिंडदान सामग्री को एक जगह एकत्रित करने के बाद उसे जमीन में गड्ढा (किट) बनाकर डाला जाएगा। सामग्री के साथ बैक्टीरिया कल्चर बनाने वाला पाउडर भी मिलाया जाएगा। इससे फूल, माला, आटा आदि के सड़ने पर दरुगध नहीं आएगी। 45 से 60 दिनों में खाद तैयार जाएगी। नाइट्रोजन, पोटैशियम और कैल्शियम युक्त यह खाद पौधों के पोषण और विकास के लिए काफी उपयोगी होगा।

उन्होंने कहा कि पहले पिंड की सामग्री नदी में प्रवाह कर दी जाती थी। इससे नदी में प्रदूषण बढ़ता था। प्रत्येक दिन पिंड सामग्री को पिंडस्थल से हटाया जाएगा और उसे एकत्रित कर उससे खाद बनाई जाएगी।

इस वर्ष पितृपक्ष 14 सितंबर से शुरू हो रहा है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleसंकटों से छुटकारा पाने के लिए करें संकटमोचन हनुमानाष्टक का पाठ
Next articleशेयर बाजारों में लौटी तेजी (साप्ताहिक समीक्षा)
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here