बिहार : 72 घंटे में लू से 90 लोगों की मौत

0
128

बिहार में भीषण गर्मी और लू की चपेट में आने से 24 घंटे के भीतर और 12 लोगों की मौत हो गई। एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि पिछले तीन दिनों में 90 लोगों की मौत हो चुकी है। अनाधिकारिक खबरों में हालांकि एक दर्जन जिलों में लोगों की मौत का आंकड़ा 250 तक पहुंचने का दावा किया गया है।

ये मौतें औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई जिलों में हुई हैं। इन जिलों में 15, 16 और 17 जून को तापमान 42 से 45.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था।

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की वेबसाइट के मुताबिक, मंगलवार तक लगभग 90 मौतें हो चुकी हैं। औरंगाबाद में 41, गया में 35 और नवादा में 14 लोग लू की चपेट में आकर काल के गाल में समा गए।

झुलसा देने वाली गर्म हवाओं के कहर के मद्देनजर गया, बेगूसराय, दरभंगा, गोपालगंज, मधुबनी और सीतामढ़ी जिलों में पहली बार निषेधाज्ञा यानी आपराधिक दंड संहिता की धारा 144 लागू कर दी गई है।

बिहार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने यहां मीडिया से कहा कि सरकार जांच कराएगी कि 15 जून को दोपहर बाद तीन से पांच बजे के बीच गर्म हवाओं का प्रकोप कैसे तेज हो गया, जिस कारण लू की चपेट में आने से लोगों के मरने की संख्या उच्चतम स्तर पर पहुंच गई।

कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री ने भी अगले चार दिनों में पर्यावरणीय सर्वेक्षण करवाने के आदेश दिए हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि दिए जाने की घोषणा पहले ही कर चुके हैं।

सरकार ने गर्मी से सतर्क रहने और दिन के समय घर से बाहर न निकलने का परामर्श भी जारी कर चुकी है।

मगध परिक्षेत्र के अवर स्वास्थ्य निदेशक डॉ. विजय कुमार ने कहा कि लगभग 100 लोग गया, औरंगाबाद व नवादा के सरकारी अस्पतालों में भर्ती हैं और इन तीनों जिलों के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में दर्जनों लोगों का उपचार चल रहा है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleमहाराष्ट्र में 20293 करोड़ घाटे का बजट पेश, सबको खुश करने की कोशिश
Next articleधनशोधन मामले में सिद्धि विनायक लॉजिस्टिक्स की 1609 करोड़ की संपत्ति जब्त
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here