भोजपुरी अभिनेता Sudeep Pandey बिहार में राकांपा के स्टार प्रचारक बने

0

भोजपुरी फिल्मों में बड़ी सफलता हासिल करने के बाद अभिनेता सुदीप पांडेय बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए चल रहे प्रचार के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के स्टार प्रचारक बन गए हैं। वह मुंबई के पार्टी मुख्यालय में बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल और जयंत पाटिल की उपस्थिति में राकांपा में शामिल हुए।

पांडेय की उत्तर भारत में, खासकर बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, दिल्ली और छत्तीसगढ़ में प्रशंसकों की बहुत बड़ी संख्या है। उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे नवाब मलिक के बाद महाराष्ट्र में पांडेय को उत्तर भारतीयों के युवा चेहरे के रूप में प्रोजेक्ट किए जाने की संभावना है।

इस बारे में पांडेय ने आईएएनएस से कहा, “जैसा कि हम सभी जानते हैं कि बड़ी संख्या में उत्तर भारतीय, खासकर बिहार और उत्तर प्रदेश के लोग महाराष्ट्र से रहते हैं। मुझे उनके लिए काम करने का एक बेहतरीन अवसर मिलेगा।”

उन्होंने आगे कहा, “पार्टी ने बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मेरे कंधों पर एक बड़ी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी डाल दी है और अब बिहार में पार्टी के लिए अधिक से अधिक राजनीतिक ग्राउंड हासिल करना है। मैं इसके लिए प्रतिबद्ध हूं।”

उन्होंने आगे कहा, “बिहार के लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि वास्तविक विकास क्या होता है। नीतीश कुमार के शासन में बिहार ने जो कुछ भी थोड़ी बहुत प्रगति की है, उससे वे सिर्फ संतुष्ट हैं। वर्तमान प्रगति बहुत धीमी है और बिहार को इस गति से विकसित राज्य बनने में सदियां लगेंगी। अगर बिहार वास्तव में प्रगति कर रहा है तो यहां के मजदूर महाराष्ट्र के लिए क्यों पलायन करते हैं? बड़ी बेरोजगारी है और राज्य में कोई नया उद्योग शुरू नहीं किया जा रहा है। बिहार की वास्तविक स्थिति देखकर मुझे बुरा लगता है।”

पांडेय ने कहा, “महाराष्ट्र में हमारे पास देश के किसी अन्य हिस्से की तुलना में बेहतर सड़कें, कृषि प्रणाली, पानी, सिंचाई और बिजली की सुविधा है। हमारे सर्वोच्च नेता शरद पवार ने महाराष्ट्र के समग्र विकास में एक वास्तुकार की भूमिका निभाई है। वह देश के दूरदर्शी नेता हैं और मैं चाहता हूं कि एनसीपी बिहार में वास्तविक विकास के लिए वैसा ही स्थान हासिल करे।”

उन्होंने कुछ हिंदी फिल्मों के अलावा 40 से अधिक हिट भोजपुरी फिल्मों में मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं। वह 10 सितंबर को कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए थे, लेकिन बिहार में अपने नेताओं की कार्यशैली से प्रभावित नहीं थे। इसलिए, उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

जब उनसे पूछा गया कि वह राकांपा में क्यों शामिल हुए, तो उन्होंने कहा, “एक अभिनेता होने के अलावा, मैं एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी हूं और राकांपा नेताओं की शैक्षिक पृष्ठभूमि से प्रभावित हूं। वे बहुत सकारात्मक हैं। मुझे महाराष्ट्र के साथ-साथ उत्तर भारतीय राज्यों में रहने वाले हमारे लोगों के लिए काम करने का अवसर मिला है।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleAamir khan on Laxmi Bomb Trailer: आमिर खान ने देखा लक्ष्मी बम का ट्रेलर सोशल मीडिया पर की अक्षय कुमार के अभिनय की तारीफ
Next articleकोरोना से ठीक होने के बाद Punjab’s Health Minister को अस्पताल से छुट्टी मिली
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here