Badminton : पीबीएल का छठा सीजन अब अगले साल होगा

0

प्रीमियर बैडमिंटन लीग (पीबीएल) के छठे सीजन को कोरोनावायरस महामारी के कारण स्थगित कर दिया गया है। दुनिया में सबसे अधिक प्राइज मनी वाले टूर्नामेंट के तौर पर अपनी साख बना चुकी इस लीग के बीते पांच संस्करणों में विश्व के टाप-10 खिलाड़ी हिस्सा लेते रहे हैं और इनकी मौजूदगी में दुनिया को रोमांचक बैडमिंटन एक्शन देखने को मिलता रहा है। लीग के छठे संस्करण का आयोजन दिसम्बर के अंतिम सप्ताह में होना था लेकिन अब जबकि इसे स्थगित कर दिया गया है, इसका आयोजन अगले साल की शुरूआत मे होगा और इसके लिए नई तारीखों की घोषणा शीघ्र ही की जाएगी।

छठे सीजन को स्थगित करने का फैसला इस लीग के आधिकारिक लाइसेंस होल्डर-स्पोटर्जलिव ने भारतीय बैडमिंटन संघ (बीएआई) से सलाह के बाद लिया। स्पोटर्जलिव ही राष्ट्रीय खेल महासंघ के बैनर तले इस टूर्नामेंट का आयोजन कराता है। दोनों संगठनों ने इंटरनेशनल ट्रेवल सम्बंधी गाइडलाइंस और उसमें निहित प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया।

साथ ही लीग से जुड़े खिलाड़ियों और सभी हितधारकों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर भी यह फैसला लिया गया। ऐसे में जबकि दुनिया भर में खेल गतिविधियां तेजी से लौटने लगी हैं, आयोजकों को उम्मीद है कि वे अगले साल इस लीग का आयोजन करा सकेंगे।

स्पोटर्जलिव के एमडी प्रसाद मांगीपुदी ने कहा, “पीबीएल का असल विंडो दिसम्बर का अंत और जनवरी है। इस साल दुनिया कोरोना वायरस से लड़ रही है और हम हालात पर पैनी नजर रखे हुए हैं। स्वास्थ्य और सुरक्षा हमारे लिए सबसे जरूरी हैं और इसी कारण हमने बीएआई से सलाह के बाद गाइडलाइंस, प्रोटोकॉल्स और प्रतिबद्धताओं को ध्यान में रखते हुए 2021 के लिए नई तारीखों की घोषणा का फैसला किया है।”

पीबीएल ने सभी शटलरों को न केवल अपने कौशल का प्रदर्शन करने के लिए एक मजबूत मंच प्रदान किया है, बल्कि उनके करियर के विकास में भी आर्थिक मदद की है। युवा भारतीय शटलरों के लिए, इसने दुनिया के शीर्ष खिलाड़ियों के साथ खेलने का अवसर दिया है, जिसके परिणामस्वरूप पिछले पांच वर्षों में देश में बैडमिंटन का विकास हुआ है।

मांगीपुदी ने कहा, “देश में फिर से कोरोना के मामले बढ़ने लगे हैं और देश तथा दुनिया इसकी दूसरी लहर की चपेट में है। ऐसे में यह उचित होगा कि हम स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी कोविड-19 संबंधी सलाह का पालन करें। हालांकि, हाल ही में वैक्सीन की घोषणा के साथ, हम आशावादी हैं कि अर्थव्यवस्था में सुधार होगा और जल्द ही अंतरराष्ट्रीय यात्रा सहित अन्य चीजें सामान्य स्थिति में लौट आएंगी। लीग ने अगले सत्र से पहले बैडमिंटन की गतिविधियों को वापस लाने के लिए ग्रासरूट लेबल के साथ-साथ अन्य बैडमिंटन गतिविधियों को शुरू करने की योजना बनाई है।”

पीबीएल दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित बैडमिंटन लीग्स में से एक है। इसमें छह फ्रेंचाइजी खेलती हैं और इसके मैच होम एंड एवे फारमेट में खेले जाते हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleDaily Love Rashifal: लव रोमांस को लेकर कैसा रहेगा 28 नवंबर का दिन
Next article‘Tamashaa’ की रिलीज को 5 साल पूरे, दीपिका ने किया याद
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here