अगर लड़की की कुंडली में है ऐसा योग तो सोच-समझकर लें शादी का फैसला, वर्ना बहुत पछताएंगे

0
love and horoscope
life after marriage

ज्योतिष शास्त्र की मान्यता है कि प्रत्येक प्राणी का विशेष स्वभाव कुंडली में उसके ग्रहों की स्थिति पर निर्भर करता है। सुखी गृहस्थ जीवन के लिए जरूरी है कि पति के साथ ही पत्नी की कुंडली का भी अध्ययन किया जाए। इसी कारण विवाह से पूर्व वर—वधु की कुंडली का मिलान किया जाता है। जानिए, कुंडली के कुछ खास योगों के बारे में जो गृहस्थ जीवन को करते हैं प्रभावित।

1— महिला की जन्मकुंडली में अगर लग्न में सूर्य हो तो वह काफी स्वतंत्र विचारों वाली और आत्मनिर्भर होती है। वह खुद पर किसी और के नियमों का बंधन पसंद नहीं करती।

2— लग्नेश सूर्य यदि उच्च का हो तो ऐसी महिला का व्यक्तित्व काफी प्रभावशाली होता है। घर—परिवार में उसकी काफी पूछ—परख होती है। यदि वह उच्च शिक्षित न हो तो भी उसकी राय ली जाती है।

3— सूर्य की शुभ ग्रह के साथ युति महिला को स्पष्टवादी और निर्भीक बनाती है। वह जिस क्षेत्र का चयन करती है, उसमें प्रगति करती है। उसका स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है।

4— नीच का सूर्य अथवा विभिन्न ग्रहों के दोष से निर्बल स्थिति का लग्नेश होने से वह महिला काफी क्रोधी तथा झगड़ालू होती है। पति के साथ उसके विचार कभी मेल नहीं खाते।

5— अगर कुंडली में शुक्र की स्थिति शुभ न हो और उस पर किसी क्रूर ग्रह की दृष्टि हो तो उस महिला का वैवाहिक जीवन कष्टपूर्ण होता है। पति के साथ अक्सर विवाद होते रहते हैं। ऐसी स्थिति में दोनों को साथ—साथ मां लक्ष्मी एवं भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here