असम: पिछले आठ साल में डायन बता कर हत्या के मामलों में कुल 107 लोगों की मौत

0

जयपुर। असम में पिछले 8 सालों में टाइम बता कर हत्या के मामलों के कुल 107 मामले सामने आ चुके हैं। संसदीय कार्य मंत्री चंद्रमोहन पटवारी ने के द्वारा बीते शनिवार को राज्य की विधानसभा में इस बात की जानकारी दी गई है।

कांग्रेस की विधायक नंदिता दास के द्वारा लिखित सवाल के जवाब में यह जवाब देते हुए बताया गया है कि साल 2011 से लेकर साल 2016 के बीच में विच हंटिंग के मामलों को लेकर 84 लोगों की जान गई है। वहीं भारतीय जनता पार्टी की अगली सरकार के गठन के बाद इस साल अक्टूबर तक 23 लोगों की मौत हुई है।

वही आपको बता दे कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की ओर से पटवारी ने कहा है कि राज्य सरकार ने पिछले साल अक्टूबर में असम विच हंटिंग निषेध रोकथाम और संरक्षण अधिनियम 2015 को अधिसूचित भी किया था और यह अंधविश्वास के खिलाफ जागरूकता अभियान भी चला रहे हैं।

वहीं पटवारी ने सदन को बताया कि बोडोलैंड के टेरिटोरियल एरिया डिस्ट्रिक्ट के क्षेत्राधिकारी के अधीन आने वाले कोकराझार चिरांग और धुबरी जिले में क्रमशः सबसे अधिक 22,19 और 11 लोगों की जान गई है।

वहीं इसके अलावा उन्होंने बताया है कि विश्वनाथ ने 9 गोल ऑल पाड़ा में 7 नए गांव और तिनसुकिया में 66 और कारण भी और आंगलोंग मंजिली में चार चार लोगों की जान इस मामले को लेकर गई है। है मंत्री ने बताया कि साल 2016 से अब तक विच हंटिंग में मारे गए 23 लोगों में से 12 पुरुष और 11 महिलाएं थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here