अशोक लेलैंड ने अपनी 70वीं सालगिरह पर शुरू की नई योजना, जानिए

0
98

जयपुर। कमर्शियल वाहन निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड ने अपनी 70वीं सालगिरह पर अपने एन्नोर प्लांट में इलेक्ट्रिक व्हीकल फैसिलिटी की शुरुआत की है। यानी अब कंपनी भारत में हैवी वाहन सेगमेंट में इलेक्ट्रिक व्हीकल पर काम करेगी। आपको बता दें कि यह डिजाइन, प्रोटोटाइपिंग, टेस्टिंग और सॉल्यूशन डिजाइन के लिए भारत की पहली इंटिग्रेटेड फैसिलिटी है।

जानकारी के अनुसार अशोक लेलैंड द्वारा शुरु किए गए पहली इंटिग्रेटेड फैसिलिटी में मोटर्स, बैटरी मॉड्यूल्स की इंजीनियरिंग, प्रोटोटाइपिंग और टेस्टिंग के साथ-साथ पावर इलेक्ट्रॉनिक्स लैब पर काम होगा। इसे कंपनी ने मैन्युफैक्चरिंग और फील्ड ट्रैकिंग के लिए डिजिटल टूल्स से लैस किया है।

जानकारी के अनुसार यह सेंटर ईमोबटेक सेंटर के साथ आईआईटीएम रिसर्च पार्क में स्थित है और यहां पर अशोक लेलैंड की ईमोबिलिटी से जुड़े सभी तरह के सर्विस और सॉल्यूशंस उपबल्ध कराए जाएंगे। जानकारी के अनुसार फिलहाल इस कंपनी स प्लांट में सलाना अलग-अलग बैटरी और चार्जिंग ऑप्शन वाले 5 से 10 हजार वाहनों की देखरेख करेगा। इसके साथ ही कंपनी भारत के साथ दुनियाभर के स्टार्टअप कंपनियों के साथ काम करेगी ताकि नई तकनीक पर काम किया जा सके।

अशोक लेलैंड के एमडी विनोद के देसारी ने इस मौके पर कहा कि, हमारे 70वें साल में हम अपने भविष्य की बुनियाद रख रहे हैं। एन्नोर में बना इलेक्ट्रिक व्हीकल सेंटर हमें ईमोबिलिटी के मामले में आगे रखेगा। हम इस प्लांट पर देश के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के नए प्लेटफॉर्म, लो फ्लोर सिटी बसें और पावर सोल्यूशन प्रोजेक्ट पर काम करेगे। इसके अलावा हम कई तकनीकों और प्लेटफॉर्म को डेवलपमेंट का काम कर रहे है जो कि कंपनी को कमर्शियल व्हीकल मोबिलिटी के क्षेत्र में आगे बढ़ने सहयोगी होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here