16 साल की उम्र में घर से भागकर की थी आशा भोसले ने शादी, जानें इनकी रोचक बातें

0
146

मशहूर सिंगर आशा भोसले ऐसी शख्सियत हैं जो आज देश ही नहीं विश्वभर में अपनी आवाज के लिए जानी जाती है। उन्होंने अपनी मधुर आवाज से दुनिया को अपना दीवाना बनाया हुआ है। उनकी आवाज, गाने की अदा एकदम जुदा है। आज आशा भोसले को जन्मदिन है। इस खास मौके पर हम आपको उनकी जिंदगी के कुछ अहम किस्से बताने जा रहे हैं। आशा भोसले का जन्म 8 सितंबर 1933 को ब्रिटिश इंडिया के सांगली स्टेट में हुआ था। आशा जब महज दस की थी तो उन्होंने गाना शुरू किया था। आशा भोसले अभिनेता और क्लासिकल सिंगर दीनानाथ मंगेशकर की बेटी और लता मंगेशकर की छोटी बहन हैं।

आशा उस वक्त महज 9 साल की थी तभी उनके पिता का निधन हो गया था। इसी कारण आशा ने बहन लता के साथ सिंगिंंग और अभिनय शुरू किया जिससे परिवार को सपोर्ट कर सके। उनका पहला गीत मराठी फिल्म माझा बल में चला चला नव बाला था। जो साल 1943 में आई थी।

वहीं हिंदी फिल्मों में आशा ने पहली बार हंसराज की फिल्म चुनरिया के लिए पहला गाया था। आशा ने 16 साल की उम्र में 31 साल के गणपतराव भोसले से घरवालों के विरूद्ध जाकर भागकर शादी की थी। लेकिन ससुराल का माहौल सही ना होने पर पति को छोड़कर बच्चों के साथ मायके वापस आ गई। इसके बाद उन्होंने फिर से सिंगिंग शुरू कर दी। आशा ताई ने दूसरी बार शादी आ डी बर्मन के साथ थी। ये दोनों के लिए दूसरी शादी थी।

उस वक्त गीता दत्त, शमशाद बेगम और लता मंगेशकर का नाम काफी ज्यादा मशहूर हुआ करता था। तब आशा को वो गीत दिया जाता था जो ये तीनों छोड़ देती थी। बाद में फिल्ममेकर बिमल राय ने 1953 में आई उनकी फिल्म परिणीता में उन्हें गाने का मौका दिया था, उन्होंने मोहम्मद रफी के साथ गाने का अवसर मिला। आशा ताई को उच्च कोटी के सिंगर का दर्जा तब मिला जब उन्होंने बी.आर. चोपड़ा की फिल्म नया दौर के लिए गाना गया। फिल्म के लिए तीन गाने ‘मांग के साथ तुम्हारा’, ‘उड़ें जब जब जुल्फें’ और ‘साथी हाथ बढ़ाना’ जैसे बेहतरीन गीतों को अपनी आवाज से सजाया था। इसके बाद आशा ताई ने एक से बढ़कर एक सुपरहिट गानों को अपनी आवाज दी। उनके हर एक गाने को आज भी संगीत प्रेमी बड़े ही चाव से सुनते हैं। फिल्म उमराव जान के गाने के लिए उन्हें बेस्ट सिंगर के अवॉर्ड से नवाजा गया था।

आशा ताई को उनकी गायकी के लिए 7 बार फिल्मफेयर अवॉर्ड, 2 बार नेशनल अवॉर्ड, पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के जैसे अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here