रक्तदान के बयान पर ट्रोल हुए असदुद्दीन औवेसी

0
94

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी को महाराष्ट्र की एक चुनावी रैली में दिए गए बयान पर शनिवार को सोशल मीडिया पर खूब ट्रोल किया गया। औवेसी ने चुनावी रैली में कहा था कि उन्होंने एक बार एक ही दिन में 15 बोतल रक्तदान किया था।

हैदराबाद लोकसभा सांसद का वीडियो ट्विटर पर शेयर किया गया, जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उनकी खिल्ली उड़ानी शुरू कर दी। इस पर लोगों ने कई मीम, जीआईएफ और मजेदार चुटकुले बनाते हुए खूब चटकारे लिए।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में दिख रहा है कि ओवैसी ने चुनावी सभा को बताया कि उन्होंने न केवल रक्तदान किया, बल्कि व्यक्तिगत रूप से रक्त देने के लिए हैदराबाद के उस्मानिया जनरल अस्पताल में पीड़ितों के बिस्तर तक भागकर चले गए।

ओवैसी के इस वीडियो पर लोगों की कुछ मजेदार प्रतिक्रियाएं देखने को मिली हैं।

एक व्यक्ति ने ट्वीट किया, “एक व्यस्क में औसतन 4,500 से 5,700 मि.ली. रक्त मात्रा होती है। एक यूनिट (बोतल) में रक्त की मात्रा 525 मि.ली. होती है। यानी, 15 यूनिट रक्त 7,875 मि.ली. हुआ। ओवैसी ने बताया कि उन्होंने 15 बोतलों के साथ ही खुद ही इसे जाकर दिया भी। इंशाल्लाह.. मेडिकल साइंस को तो भूल ही जाओ, यहां तक कि अल्लाह भी इसका बचाव नहीं कर सकते।”

एक अन्य व्यक्ति ने ट्वीट किया, “वह कहते हैं कि खून भी दे रहा था, फिर अपने हाथ से बोतल जाकर दे रहा था। मेरे ख्याल से वह काफी बुद्धिमान हैं।”

एक ट्वीट में तंज कसते हुए कहा गया, “औवेसी ने एक दिन में 15 बोतल खून दिया और लोग ताली भी बजा रहे।”

एक अन्य व्यक्ति ने कहा, “औवेसी ने पैग दिया होगा 60 मि.ली. वाला। गलती से खून बोला गया।”

ओवैसी 21 अक्टूबर को राज्य विधानसभा चुनाव से पहले पश्चिमी महाराष्ट्र में एक रैली को संबोधित कर रहे थे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleअयोध्या मामला : दोनों पक्षों ने ‘मोल्डिंग ऑफ रिलीफ’ पर दिया हलफनामा
Next articleपीकेएल-7 : दिल्ली को हराकर बंगाल ने जीता खिताब
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here