मुस्लिमों को मजिस्ज की जमीन के लिए खैरात की जरुरत नहीं- ओवैसी

0
463

अयोध्या मामले पर आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर असदुद्दीन ओवैसी की प्रतिक्रिया सामने आई है। असदुद्दीन ओवैसी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर असंतुष्टि जताई है। ओवेसी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संतुष्ट नहीं हूं। साथ ही मुस्लिमों को मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन देने की सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एतराज जताया है। कहा कि मुस्लिमों को खैरात में जमीन नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि ये उनके नीजि विचार है। लेकिन अब सुन्नी बक्फ बोर्ड को फैसला लेना है कि वह जमीन के प्रस्ताव को मानते हैं या फिर नहीं।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के सीजेआई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने 16 अक्टूबर को सुनवाई पूरी होने पर फैसले को सुरक्षित रख लिया था। सुप्रीम कोर्ट में 40 दिनों से लगातार सुनवाई हो रही थी।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद मुस्लिम पक्ष ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को विरोधाभासी बताया है। मुस्लिम पक्ष के इकबाल अंसारी ने कहा है कि हम फैसले का सम्मान करते हैं। देश का अहम मसला काफी समय बाद आज खत्म हो गया है। मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से हम संतुष्‍ट नहीं हैं। कुछ गलत तथ्‍य पेश करे गए हैं। हम उनकी जांच करेंगे। उच्‍चतम न्‍यायालय का फैसले का हम सम्‍मान करते हैं। देश में लोगों को शांति बनाए रखनी चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने आयोध्या पर अपने फैसले में कहा कि विवाद ढ़ांचे की जमीन राममंदिर न्यास को सौंपी जाए। मुस्लिम पक्ष को मस्जिद के लिए अन्य जगह जमीन दी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले बाद राजनेताओं ने ट्वीट कर अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दी है। भाजपा के दिग्गज नेता नितिन गडकरी, अरविंद केजरीवाली, शिवाराजसिंह चौहान उमाभारती सहित नेताओं ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान किया है। साथ ही देश में एकता, शांति और सौहार्द की  भावना बनाए रखने को कहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here