मासूमों की अंगुली थामकर कश्मीर का भविष्य बचा रही भारतीय सेना

0
112

जयपुर। पाकिस्तान में बच्चों के हाथों में पत्थर की जगह कलम थमाने का काम अब भारतीय सेना द्वारा किया जा रहा है जी आप जानते हैं कि किस तरीके से कश्मीर में कई युवाओं द्वारा पत्थरबाजी करने का काम किया जाता है और सेना पर पत्थरबाजी की जाती है जिससे उनका भविष्य और देश का समय दोनों बर्बाद होता है वही इसका जवाब देने के लिए अब पाकिस्तानी कश्मीर के बच्चों के हाथ में कलम नहीं पत्थर और बंदूक देखना चाहने वाले पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए भारतीय सेना ने शिक्षा की रोशनी पर काम करना शुरू कर दिया.

भारतीय सेना ने कश्मीर में आतंकियों के चलते वहां पर गुडविल स्कूलों की स्थापना करी है और अब तक 43 गुडविल स्कूल को स्थापित कर दिया गया जिसके अंतर्गत कश्मीर के छोटे मासूम बच्चों को पढ़ाया जाता है ताकि वे अपना और देश का भविष्य सुधार सके और उसके साथ साथ कश्मीर की सूरत को भी बदल सके.

इसके अलावा सेना की इस मुहिम को दूरदराज इलाकों के बच्चों का कहीं तरीके से प्रोत्साहन मिल रहा है यहां पर बच्चे स्कूल में इंजीनियर डॉक्टर सैन्य अधिकारी बनने का सपना लेकर पढ़ने के लिए आ रहे हैं. वहीं ऐसे हालात में सेना ने आतंकवाद के खौफ को खत्म कर उसके साथ साथ शिक्षा की रोशनी जलाने का काम अब कश्मीर में शुरू कर दिया है.

इसका असर भी देखने को मिला है इस स्कूल में पढ़ कर कहीं बच्चे एग्जाम में अच्छे नंबर लाकर अपना भविष्य बनाने की और बढ़ रहे हैं और अपना और समाज का उद्धार करने के लिए प्रतिबंध नजर आ रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here