मेरे साथ शील भंग का प्रयास हुआ : पंखुरी पाठक

0
94

जयपुर। अभी हाल ही में समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता रह चुकी पंखुरी पाठक ने आरोप लगाया है की उनके साथ अलीगढ़ में मोब लिंचीग तथा जानलेवा हमला और शील भंग करने का प्रयास हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बात दें कि अभी हील ही में समाजवादी पार्टी की पूर्व प्रवक्ता पंखुरी पाठक अपने सहयोगी फिल्म बुलेट के लेखक अमरेश मिश्रा और कुछ साथियों के साथ अलीगढ़ गई थी। जहां पर ये लोग मानवाधिकार जांच दल का हिस्सा बनकर पुलिस एनकाउंटर में मारे गए नोशाद और मुस्तकीम के घर गये थे।

लेकिन पंखुरी पाठक ने अब आरोप लगाया है कि पुलिस ने इन लोगों को शक की बिना पर मारा था। तथा मुस्तकीम की विधवा से मिलकर जब पंखुड़ी पाठक और उनकी टीम वापस आ रही थी तो भगवा गमछाधारी बजरंग दल के लोगों ने हमला कर दिया। तथा बजरंग दल के ये लोग उन्हें मारने पर उतारू हो गए थे।

इसके बाद पंखुरी ने आरोप लगाया है कि कि इस दौरान उनका शील भंग करने का भी प्रयास किया गया। ऐसे में किसी तरह से यह लोग अपनी टीम के साथ बच कर निकल सके। तथा उनकी कार को भी तोड़ दिया गया। इसके बाद इस घटना में अलीगढ़ के अतरौली थाने की पुलिस की भूमिका पर भी पंखुरी पाठक ने आरोप लगाये हैं।

बता दें कि इशके बाद पंखुरी पाठक ने अपनी शिकायत दर्ज कराते हुए अमरेश मिश्रा सहित और कई साथियों ने मामले में लोगों को जेल भेजने की मांग की है। पंखुरी ने कहा की मोब लिंचीग के इस मामले वैसे ही काम हो जैसे कि गाइड लाइन सुप्रीम कोर्ट ने बनाई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here