अमृतसर ट्रेन हादसा: एक साल बाद न दोषियों को मिली सज़ा, न पीड़ितों को नौकरी

0
91

जयपुर। आज देशभर में दशहरे का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जा रहा है लेकिन पंजाब के अमृतसर के लोगों के मन में आज भी ठीक 1 साल पहले पिछले दशहरे को हुए दर्दनाक रेल हादसे का मंजर अभी भी ताजा है.

आपको बता दें कि पिछले साल 19 अक्टूबर को दशहरे के दिन पंजाब के जोड़ा फाटक पर दशहरा देख रहे लोगों को एक ट्रेन ने कुचल दिया था और इस हादसे में करीब 60 लोगों की जान चली गई थी वहीं करीब डेढ़ सौ से ज्यादा लोग इस हादसे में घायल हुए थे हादसे के 1 साल बीत जाने के बाद भी आज तक पीड़ितों के परिवारों को कोई भी मदद सरकार की तरफ से नहीं दी गई है.

मीडिया में आ रही रिपोर्ट के अनुसार ही खबर सामने आ रही है कि हादसे के 1 साल बीत जाने के बाद भी पीड़ितों के परिवार वालों को और रिश्तेदारों को दिलाएगा इस सरकारी नौकरी के आश्वासन और दोषियों पर कार्यवाही का इंतजार ही रह गया है सरकार की तरफ से इसे लेकर कोई भी बड़ा कदम नहीं उठाया गया है.

इसके अलावा इस रेल हादसे में मारे गए लोगों के परिवार वालों ने मंगलवार को एक बार जोड़ा फाटक तक कैंडिल मार्च निकाला है और हादसे में शिकार हुए लोगों को श्रद्धांजलि भी अर्पित करी है. वही कैंडल मार्च के दौरान पीड़ित परिवारों ने कहा है कि पीड़ित परिवार के घर वालों को खाने तक के लिए कई जगहों पर कई परिवारों में रोटी तक नहीं है वहीं सरकार ने नौकरी का वादा किया था जिसे अभी तक पूरा नहीं किया गया है और इसके साथ-साथ आरोपियों को सजा दिलाने का जो वादा किया गया था उसे लेकर भी कोई कार्य सरकार द्वारा नहीं किया गया है यह आरोप पीड़ित लोगों के परिवार वालों द्वारा लगाया जा रहा है.

वही आपको बता दें कि इन सब के दौरान अकाली दल के नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने की कैंडल मार्च में भाग लिया और लोगों का साथ दिया मजीठिया का कहना था कि पंजाब सरकार ने झूठे वादे किए और आरोपियों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की उन्होंने कहा कि आरोपियों पर सरकारी कार्रवाई करें और वादे के मुताबिक पीड़ित परिवारों को नौकरी देनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here