Agriculture bill 2020: कृषि बिल के खिलाफ सड़क पर उतरेंगे किसान, देशव्यापी प्रदर्शन 25 सितंबर से…

0

कृषि बिल के खिलाफ किसानों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। संसद से पारित किए गए कृषि बिलों के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसान धरने पर हैं। आज उत्तर प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर भारतीय किसान यूनियन ने प्रदर्शन किया है। मुजफ्फरनगर किसान यूनियन के राष्ट्रयी प्रवक्ता राकेश टिकैत बताते हैं कि मोदी सरकार बहुमत के नशे में चूर है।

उन्होंने कहा कि देश की संसद के इतिहास में पहली दुर्भाग्यपूर्ण घटना है कि किसानों से जुड़े तीन विधेयकों को पारित करते समय किसी तरह की संसद में चर्चा नहीं करने दी गई। यह भारत के लोकतंत्र के अध्याय में काला दिन है। राकेश टिकैत का कहना है कि आज देश की सरकार किसानों के समर्थन मूल्य का अधिकार छीनना चाहती है। इससे देश का किसान बर्बाद हो जायेगा। मंडी के बाहर खरीद पर कोई शुल्क नहीं होने से देश की मंडी व्यवस्था समाप्त हो जाएगी। किसान को बाजार के हवाले छो़ड़कर देश की खेती को मजबूत नहीं किया जा सकता है।

बता दें कि सरकार और किसान जहां आमने सामने हैं तो कांग्रेस सहित विपक्षी दल भी बिल के विरोध में है। पंजाब के अकाली दल की नेता और बीजेपी में केंद्रीय मंत्री हरसिरमत कौर ने भी कृषि बिल के विरोध में इस्तीफा दे दिया था। इन बिलों के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसान सड़कों पर उतरे हुए हैं। इस विरोध के बीच दोनों बिल संसद द्वारा पारित कर दिए गए हैं। कृषि बिलों का विपक्ष भी विरोध कर रहा है।

Read More…
Agriculture Bill 2020: किसान विधेयक पर राज्यसभा में हंगामा, 8 सासंदों को किया निलंबित
India China Standoff: दोनों देशों के बीच सैन्य कमांडर लेवल की बैठक शुरू, इस मुद्दे पर वार्ता संभव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here