आखिर क्यों भारत में 2 महीने में हुई 106 तेंदुओं की मौत, जानिए कारण !

0
173

देश भर के जंगली क्षेत्रों में नए साल की शुरुआत के पहले दो महीने में 106 तेंदुओं की जान चली गई। तेंदुओं की कम संख्या के मद्देनजर पर्यावरणविदों और वन्यजीव विशेषज्ञों ने तेंदुओं की मौतों पर गंभीर चिंता जताई है।

दो महीने में इतनी संख्या में तेंदुओं की मौत पर चिंता और ज्यादा तब बढ़ जाती है जब इन 106 मौतों में केवल 12 को प्राकृतिक मौत बताया जा रहा है।

इस मामले में आंकड़े जुटाने वाली संस्था वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसाइटी आफ इंडिया के अनुसार, सबसे ज्यादा मौतें शिकार की वजह से हुईं हैं और केवल 12 की मौत प्राकृतिक कारणों से हुईं हैं।

उत्तराखंड में सबसे ज्यादा 24, महाराष्ट्र में 18 और राजस्थान में 11 तेंदुओं की मौत हुई है। तेंदुओं की मौत का विवरण 18 राज्यों से हासिल हुआ है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 में कुल 431 तेंदुओं की मौत हुई। इनमें 159 मौतें शिकार के कारण हुईं। वर्ष 2016 में करीब 450 बाघों की मौत हुई थी जिनमें 127 की मौत शिकार की वजह से हुई।

शिकारी तेंदुओं की खोज में रहते हैं क्योंकि उनकी चमड़ी और खाल काफी ऊंचे दामों पर बिकती है। इसके साथ इसके कई अन्य अंगों की भी मांग रहती है। इसके साथ ही आबादी बढ़ने और जंगलों तक जा पहुंची खेती की जमीन तेंदुआ के लिए बड़ा खतरा बन गई है।

विशेषज्ञों ने आईएएनएस से कहा कि भारत में शिकारी तेंदुए की खाल को तीन-चार लाख रुपये में बेच देते हैं। इसके बाद यह खाल नेपाल या अन्य पड़ोसी देश पहुंच जाती है जहां इसकी कीमत बढ़कर आठ-दस लाख रुपये हो जाती है। वहां से इसे तस्करी कर चीन पहुंचाया जाता है जहां इसकी कीमत 40 से 50 लाख रुपये हो जाती है।

वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसाइटी के अनुसार, तेंदुए की मौत के 10 संभावित कारण हैं। इस साल 106 मौतों में से 36 का कारण स्पष्ट नहीं है।

इनमें से 23 मामलों में चमड़ी, खाल और खोपड़ी बरामद हुई है लेकिन इससे यह मालूम नहीं चलता कि उसकी प्राकृतिक मौत हुई है क्योंकि ऐसा भी हो सकता है किसी अन्य अंग को निकालकर बाकी शव को वैसे ही छोड़ दिया गया हो।

वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसाइटी के अनुसार, इनमें से 18 मामले ऐसे हैं जो स्पष्टतया शिकार किए जाने की ओर इशारा करते हैं। ऐसा इसलिए कि इनके शरीर पर गोली के निशान मिले हैं या शरीर में विष होने की जानकारी मिली है।

सोसाइटी ने कहा कि जनवरी और फरवरी के दौरान आठ की मौत ट्रेन और सड़क दुर्घटना में हुई है। दो की मौत इलाज के दौरान, एक की मौत करंट लगने से और उत्तर प्रदेश में एक की मौत पुलिस की गोली लगने से हुई।

सोसाइटी ने कहा कि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, जम्मू एवं कश्मीर और गुजरात में चार तेंदुओं को तस्करों से चंगुल से छुड़ाया गया।

वाइल्डलाइफ प्रोटेक्शन सोसाइटी के प्रोग्राम आफिसर टीटो जोसफ ने आईएएनएस से कहा, “दो महीने में मौत का यह आंकड़ा काफी ज्यादा है, वन्यजीव संरक्षण के लिहाज से यह साल की खराब शुरुआत है।”

देहरादून स्थित वर्ल्डलाइफ इंस्टीट्यूट आफ इंडिया के वरिष्ठ वैज्ञानिक वाई.वी. झाला के मुताबिक, यह संख्या और भी ज्यादा हो सकती है क्योंकि ये आंकड़े वो हैं जिनके मामले सामने आए हैं।

वर्ल्डलाइफ इंस्टीट्यूट के अनुसार देश के 17 राज्यों में 9 हजार तेंदुए हैं। हालांकि देश भर में तेंदुओं की वास्तविक संख्या ज्ञात नहीं है। भारतीय तेंदुए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संरक्षण किए जाने वाले जीवों की सूची में हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleकोणार्क का सूर्य मंदिर जो स्थित है उत्तराखंड में भी
Next articleउप्र उपचुनाव : फूलपुर व गोरखपुर में सपा को बसपा का समर्थन, जानिए इसके बारे में !
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here