आखिर 9 मिनट में ही दोबारा क्यों बज उठता है अलार्म, जानिए स्नूज फंक्शन की हकीकत

0
169

सुबह सुबह जब अलार्म बजता है तो दुनिया का कोई भी ऐसा इंसान नहीं है जिसे अलार्म की यह अदा पसंद आए। और उस पर जब हम अलार्म को थोड़ी देर के लिए आगे खिसका देते हैं, यानी स्नूज फंक्शन को एक्टिव कर देते हैं तो यह अगले दस मिनट बाद फिर से आपको जगाने लग जाता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि अलार्म घड़ी दस मिनट आगे नही होती है बल्कि यह आपको 9 मिनट होते ही जगा देती है।

आपको अब तक शायद यह बात पता नही होगी के अलार्म घड़ी में स्नूज का टाइम दस मिनट नहीं बल्कि नौ मिनट का होता है। तो चलिए आज आपको इस बारे में बताते हैं। इस सवाल का जवाब जानने के लिए हमें उस दौर में जाना होगा जब अलार्म घड़ी में स्नूज बटन का आविष्कार किया गया था। हम आपको बता दे कि स्नूज बटन की मदद से हम अलार्म को कुछ देर के लिए आगे बढ़ा सकते हैं।

इस अनोखे बटन का आविष्कार 50 के दशक में किया गया था। खास बात यह है कि जब इसका आविष्कार हुआ था तब घड़ी के गियर की साइकल 10 मिनट की होती थी। लेकिन स्नूज बटन के लिए गियर का तालमेल सही रखने के लिए विशेषज्ञों ने स्नूज गियर के रिपीट होने की साइकिल 10 मिनट से एक मिनट कम कर दी।

हालांकि कुछ विशेषज्ञों का तर्क है कि इसका एक मनोवैज्ञानिक पहलू भी है। माना जाता है कि जो लोग अलार्म घड़ी का इस्तेमाल करते हैं उन्हें लगता है कि इसे कुछ देर आगे करके वो कुछ देर और सो सकते हैं। साथ ही टाइम पर उठ भी सकेंगे। यानी वो कुछ मिनटों में उठकर अपने काम पर जा सकते हैं। अलार्म बनाने वाले इंजीनियर्स का मानना है कि नींद में लोगों को कुछ पलों के अंतर का पता नहीं चलता है तभी तो अब तक आप जिसे दस मिनट का स्नूज मान रहे थे वो दरअसल 9 मिनट का ही होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here