अकाली दल के बाद जजपा ने भी दिल्ली चुनाव से किया किनारा

0

हरियाणा में भाजपा की सहयोगी जननायक जनता पार्टी (जजपा) प्रमुख एवं उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने मंगलवार को दिल्ली में विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की है। इससे एक दिन पहले ही भाजपा की एक और पुरानी सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने भी दिल्ली चुनाव से किनारा कर लिया था। दुष्यंत चौटाला ने राष्ट्रीय राजधानी का विधानसभा चुनाव न लड़ने के लिए चुनाव चिन्ह का हवाला दिया।

चौटाला ने मीडिया से कहा कि उनकी पार्टी उम्मीदवार नहीं उतारेगी, क्योंकि चुनाव चिन्ह बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा है और जजपा इतने कम समय में नए चिन्ह पर लड़ने के लिए तैयार नहीं है।

दुष्यंत ने ट्वीट किया, “दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए हमने चुनाव आयोग से चाबी या चप्पल का चुनाव चिन्ह दिए जाने का आग्रह किया था, जो किसी अन्य संगठन को दे दिए गए। ऐसे में जननायक जनता पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव न लड़ने का फैसला किया है।”

भाजपा के एक अन्य सहयोगी शिअद ने भी एक दिन पहले ही चुनाव न लड़ने की घोषणा की थी।

शिअद ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) पर अपनी असहमति के चलते चुनाव से दूरी बनाई। विवादास्पद मुद्दे पर दोनों पक्षों द्वारा एक-दूसरे को समझाने के दो दिनों के प्रयास के बाद शिअद ने सोमवार को घोषणा की कि वह चुनाव से दूर रहना पसंद करेगी।

केंद्र में सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल अकाली दल ने न केवल प्रस्तावित देशव्यापी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का विरोध किया है, बल्कि पार्टी चाहती है कि केंद्र सरकार सीएए में मुसलमानों को भी शामिल करे।

सूत्रों ने कहा कि भाजपा ने शिअद को तीन सीटों की पेशकश की थी, लेकिन उसने सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर चुनाव से दूरी बनाने में ही अपनी भलाई समझी। 2011 की जनगणना के अनुसार, दिल्ली में सिख समुदाय के 4.43 फीसदी लोग हैं। राष्ट्रीय राजधानी में सिख समुदाय का प्रभाव काफी कम है।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शिअद के इस दावे को खारिज कर दिया कि उसने सीएए को लेकर भाजपा के साथ मतभेदों के कारण चुनाव नहीं लड़ने का फैसला लिया है। उन्होंने इस पर मंगलवार को अकाली दल को चुनौती दी कि वे कानून के संबंध में अपनी ईमानदारी साबित करने के लिए केंद्र से गठबंधन को छोड़ दें। दुष्यंत ने घोषणा की है कि जजपा औपचारिक रूप से अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी करेगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleREPUBLICDAY2020: आर्मी के लुक में परफेक्ट है बॉलीवुड के ये सितारें, देखें तस्वीरें
Next articleआस्ट्रेलियन ओपन : ओसाका तीसरे राउंड में पहुंचीं
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here