एएफसी एशियन कप : बहरीन से बदला लेकर इतिहास रचना चाहेगा भारत (प्रीव्यू)

0
66

भारतीय फुटबाल टीम जब सोमवार को यहां अल शारजाह स्टेडियम में एएफसी एशियन कप के ग्रुप-ए के अपने तीसरे मैच में बहरीन का सामना करने उतेरगी, तब उसके पास बहरीन से 2011 में इस टूर्नामेंट में मिली करारी हार का बदला लेने और नॉकआउट राउंड में जगह बनाने का सुनहरा मौका होगा। भारत ने आखिरी बार 2011 में एशियन कप में भाग लिया था और ग्रुप स्तर के दूसरे मैच में उसे बहरीन के खिलाफ 2-5 की करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी। हालांकि, दोनों टीमों के मौजूदा फॉर्म को देखते हुए भारतीय टीम जीत की प्रबल दावेदार मानी जा रही है।

ग्रुप तालिका में भारत फिलहाल, दो मैचों के बाद तीन अंकों के साथ दूसरे पायदान पर मौजूद है। तीसरे स्थान पर मौजूद थाईलैंड के भी इतने ही अंक हैं लेकिन गोल अंतर के आधार पर भारत आगे है। बहरीन एक अंक के साथ आखिरी पायदान पर स्थित है जबकि पिछले मैच में भारत को हराकर मेजबान संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) चार अंकों के साथ शीर्ष पर बना हुआ है। इस ग्रुप में हर टीम के पास अगले दौर में पहुंचने का सुनहरा मौका है।

भारतीय टीम अगला मैच जीतकर बिना किसी मुश्किल के नॉकआउट रांउड में प्रवेश करना चाहेगी। अगर मैच ड्रॉ भी रहता है तो उसे यूएई और थाईलैंड के बीच होने वाले मैच के नतीजे पर निर्भर रहा होगा। भारत चाहेगा कि मेजबान टीम थाईलैंड को शिकस्त देने में कामयाब रहे और यूएई की मौजूदा स्थिति देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा कि वह आसानी से मुकाबला अपने नाम करेगा।

भारत के पास पिछले मैच में यूएई को हराकर अंतिम-16 पहुंचने का शानदार मौका था लकिन उसे 0-2 से हार झेलनी पड़ी। कोच स्टीफन कांस्टेनटाइन ने भी माना कि बहरीन के खिलाफ उन्हें हार हाल में जीत दर्ज करनी होगी।

कांस्टेनटाइन ने कहा, “मैंने पहले भी कहा है कि हम इस ग्रुप से क्वालीफाई कर सकते हैं और हमारा यही लक्ष्य है। अगर हम जीत दर्ज करते हैं तो हमें किसी अन्य चीज के बारे चिंता करने की जरूरत नहीं है। यह हमारे लिए महत्वपूर्ण मैच है और हम अच्छा प्रदर्शन करके तीन अंक हासिल करना चाहते हैं। विपक्षी टीम का डिफेंस अच्छा है और मुझे यकीन है कि मैच मुश्किल होगा लेकिन हमने यह दर्शाया है कि हम अच्छी टीमों के खिलाफ गोल कर सकते हैं।”

भारत और बहरीन सात बार एक-दूसरे से भिड़े हैं। बहरीन ने पांच मैचों में जीत दर्ज की है जबकि भारत केवल एक ही मुकाबला जीत पाया है।

कांस्टेनटाइन ने कहा, “मैं रिकॉर्ड पर भरोसा नहीं करता। मैच के दौरान कई चीजें मायने रखती है। आखिरी बार हमने कब खेला था? क्या यही टीम थी? स्थिति क्या थी? हर चीज बदलती रहती है। हम यह जानते है कि बहरीन ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टूर्नामेंट के लिए क्वालीफाई किया है और हमसे बिना लड़े हार नहीं मानेंगे।”

बहरीन के खिलाफ भारत की टीम में काई बदलाव की अपेक्षा नहीं की जा रही है। कोच ने पिछले मैच में भी वहीं टीम मैदान पर उतारी थी जिसने थाईलैंड के खिलाफ दमदार जीत दर्ज की थी। हर बार कि तरह इस मैच में सभी की नजरें करिश्माई फारवर्ड सुनील छेत्री पर टिकी होंगी जबकि डिफेंस में मौजूद खिलाड़ी अपने प्रदर्शन को बेहतर करना चाहेंगे। सेंटर बैक अनस एडाथोडिका के लिए पिछला मैच अच्छा नहीं रहा था और बहरीन के खिलाफ होने वाले महत्वपूर्ण मैच में कोई गलती नहीं करना चाहेंगे।

दूसरी ओर, बहरीन का हालिया फॉर्म खराब रहा है। टूर्नामेंट के पहले मैच में उसने मेजबान टीम के खिलाफ 1-1 से ड्रॉ खेला जबकि दूसरे मैच में थाईलैंड के खिलाफ उसे 0-1 की अप्रत्याशित हार झेलनी पड़ी। हालांकि, बहरीन के पास भी अगले दौर में पहुंचने का सुनहरा मौका है।

अगर बहरीन की टीम यह मुकाबला जीतने में कमायाब होती है और यूएई भी अपना मैच जीत जाता है, तो बहरीन तीन मैचों में चार अंकों के साथ नॉकआउट राउंड में प्रवेश कर जाएगा।

बहरीन के सहायक कोच खालिद ताज ने कहा, “हम उस भारतीय टीम का सम्मान करते हैं, जिसने पहले दो मैचों में शानदार प्रदर्शन किया, उन्होंने एशिया में खुद को बहुत बेहतर किया है। हम भारत का सामना करने के लिए अपने खिलाड़ियों को मानसिक और शरीरिक रूप से तैयार कर रहे हैं।”

यह मैच भारतीय समय अनुसार शाम के 9:30 बजे खेला जाएगा।

भारतीय टीम :

गोलकीपर : गुरप्रीत सिंह संधू, अमरिंदर सिंह, विशाल कैथ।

डिफेंडर : प्रीतम कोटाल, संदेश झिंगन, अनस एदाथोडिका, सलाम रंजन सिंह, सार्थक गोलुई, सुभाशीष बोस और नारायण दास।

मिडफील्डर : उदांता सिंह, जैकीचंद सिंह, प्रणॉय हल्दर, अनिरुद्ध थापा, विनीत राय, रॉलिगं बोर्गेस, जर्मनप्रीत सिंह, अशिक कुरुनियान, हालीचरण नारजारे।

फारवर्ड : सुनील छेत्री, जेजे लालपेखलुआ, बलवंत सिंह, सुमित पस्सी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleटैरो राशिफल 14 जनवरी 2019: जानिए आपके लिए कैसा रहेगा आज का दिन
Next articleट्रंप के आर्थिक सलाहाकर ने कामबंदी की तुलना छुट्टियों से की
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here