मंगलुरु हवाईअड्डे पर बम रखने वाला संदिग्ध आदित्य राव गिरफ्तार

0

बेरोजगार मेकेनिकल इंजीनियर आदित्य राव ने मंगलुरु हवाईअड्डे पर बम रखने वाले संदिग्ध के रूप में समर्पण कर दिया है। पुलिस ने बुधवार को कहा कि उसे उस वक्त गिरफ्तार कर लिया गया, जब उसने कर्नाटक के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) कार्यालय पर जाकर समर्पण कर दिया।

एक पुलिस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, “मंगलुरु अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर सोमवार को एक देसी बम (आईईडी) रखने के मामले में प्रमुख संदिग्ध 36 वर्षीय आदित्य राव को डीजीपी के कार्यालय में समर्पण करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया।”

अधिकारी ने आगे कहा, “राव को जांच के लिए राज्य द्वारा संचालित विक्टोरिया अस्पताल में ले जाया जाएगा और इसके बाद उसे उसकी हिरासत और मामले की जांच के लिए स्थानीय अदालत में पेश किया जाएगा।”

राज्य के गृहमंत्री बसवराज बोम्मई ने यहां संवाददाताओं को बताया कि पुलिस स्टेशन के पास स्थित राज्य डीजीपी-आईजी (महानिरीक्षक) नीलमणि राजू के कार्यालय में जाकर उसके समर्पण करने के बाद हलासुरू गेट पुलिस स्टेशन के सर्कल इंस्पेक्टर द्वारा संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया।

बोम्मई ने कहा, “संदिग्ध ने मंगलुरु हवाईअड्डे में एक एयरलाइन (इंडिगो) के कार्यालय के बाहर काउंटर पर कुछ बम बनाने वाली सामग्री से भरे एक बैग को रखने की बात को स्वीकार किया है।”

प्रारंभिक जांच के अनुसार, राज्य के तटीय इलाके में स्थित तीर्थनगरी उडुपी के मूल निवासी राव ने बेंगलुरू से मंगलुरु तक की यात्रा रातभर एक लॉरी में की और पुलिस को बताने का फैसला किया।

पुलिस अधिकारी ने कहा, “राव को एक परेशान मेकेनिकल इंजीनियर बताया जा रहा है, जिसे नौकरी से निकाल दिया गया है। उसके खिलाफ कुछ आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह शहर से लगभग 40 किलोमीटर उत्तर में स्थित देवनहल्ली में बेंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे में पिछले साल कथित तौर पर बम होने की झूठी कॉल की थी, जिसके लिए चिक्कबल्लापुर जिला जेल में दो महीने बिताने के बाद जमानत पर है।”

सीसीटीवी कैमरे में जिस ऑटोरिक्शा में सवार होकर राव को हवाईअड्डे से बाहर निकलते देखा गया उसके चालक से पूछताछ करने पर पुलिस को उस होटल का पता लगा, जहां आरोपी ठहरा हुआ था और वहां उसने कुछ बम बनाने की सामग्री जैसे कि सफेद पाऊडर भी छोड़कर रखे थे।

अधिकारी ने बताया, “राव ने पुलिस को बताया कि चूंकि उसे कोई बेहतर काम नहीं मिल रहा था, इसलिए पिछले दो महीने में वह जिस होटल में ठहरा हुआ था, उसी के बिलिंग सेक्शन में कर्मरत था।”

बाजपे में स्थित मंगलुरु हवाईअड्डे पर उस वक्त अफरातफरी पैदा हो गई, जब केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) को एयरलाइन के चेकइन काउंटर के समीप छोड़ा गया एक काला बैगपैक मिला था।

बैग को सोमवार शाम को कंजूर के पास एक खाली स्थान पर ले जाया गया और विशेष बम निरोधी दस्ते ने उसे निष्क्रिय किया।

आरोपियों की पहचान करने और उन्हें पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर एक तलाशी अभियान की शुरुआत की गई थी।

मंगलुरु पुलिस आयुक्त पी.एस.हर्ष ने ट्वीट किया कि तटीय शहर से एक विशेष जांच दल राव को हिरासत में लेने बेंगलुरू पहुंचेगा और जांच के लिए उसे मंगलुरु लाया जाएगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleएक साथ काम करेंगे धुनष और कीर्ति, रजनीकांत की इस फिल्म का रीमके बनने की प्लानिंग
Next articleहॉलीवुड के सारे राज खोलेगी फिल्म द असिस्टेंट, नामी सेलेब्स के उड़ रहे तोते
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here