अदाणी समूह का मामला गलत तरीके से सूचीबद्ध : दवे ने सीजेआई को लिखा पत्र

0
82

वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को पत्र लिख कर कहा कि अदाणी कंपनी समूह के दो मामले शीर्ष अदालत की परंपरा और प्रक्रिया का उल्लंघन करते हुए सूचीबद्ध करके निपटाए गए। दवे ने पहला मामला-पारसा केंट कोलियरीज लिमिटेड बनाम राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड का जिक्र किया। विशेष अवकाश याचिका (एसपीएल) से पैदा हुई वर्ष 2018 की सिविल अपील को न्यायमूर्ति रोहिंटन नरीमन की अध्यक्षता वाली पीठ ने 24 अगस्त 2018 को अवकाश प्रदान किया। अदालत ने ग्रीष्मावकाश के दौरान सुनवाई होने वाले मामलों की सूची नौ मई को प्रकाशित किया।

दवे ने पत्र में कहा कि रजिस्ट्रार आर. के. गोयल के 14 मार्च 2019 के आदेश के अनुसार, सिविल अपील सुनवाई के लिए तैयार नहीं थी।

मामले को न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष 21 मई को सूचीबद्ध किया गया जहां मामले में वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार की दलील सुनी गई। मामले को फिर अगली सुनवाई के लिए 22 मई को सूचीबद्ध किया गया। उस दिन अदालत ने सुनवाई पूरी की और फैसला सुनाया।

दवे का आरोप है कि मामले में कई अन्य वकील शामिल थे लेकिन उनको इसकी सूचना नहीं दी गई। दवे ने अपने पत्र में पूछा, “क्या पीठ ने जल्दबाजी की जांच की? यह स्पष्ट नहीं है।” आखिरकार, सिविल अपील में 27 मई को सुनाए गए फैसले के जरिए आंशिक अनुमति प्रदान की गई।

दवे ने अदाणी पावर (मुंद्रा) लिमिटेड बनाम गुजरात विद्युत विनियामक आयोग व अन्य से संबंधित एक और मामले का जिक्र किया। इस मामले में 24 मई को न्यायमूर्ति अरुण कुमार मिश्रा, बी. आर. गवई और सूर्यकांत की पीठ में सुनवाई हुई। बाद में पीठ ने फैसला सुनाया।

दवे का कहना है कि मामले को शीघ्र सुनवाई के लिए नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि यह 29 अप्रैल और सात मार्च को जारी सर्कुलर के दायरे में नहीं आता है।

उनका दावा है कि इन दोनों फैसलों से अदाणी समूह को हजारों करोड़ का फायदा हो सकता है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleनिओ ने बजाई चाइना के बाजार में लक्जरी कार निर्मातओं के लिए खतरे की घंटी
Next articleज्योतिषशास्त्र: अगर इधर से आए छींक तो होता है धन का लाभ
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here