आरोपी ने दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या की

0

एक चौकाने वाले मामले में एक दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या दुष्कर्म के आरोपी ने कथित तौर पर कर दी। हैरानी की बात यह है कि अदालत द्वारा उसकी जमानत याचिका खारिज किए जाने के बावजूद वह ऐसे ही बाहर घूम रहा था। राजस्थान पुलिस की लापरवाही को उजागर करने वाली यह घटना राजस्थान के पाली जिले के सदरी गांव में सोमवार तड़के हुई।

पुलिस के अनुसार, दुष्कर्म का आरोपी देर रात 1.30 बजे पीड़िता के घर में घुसा और लड़की के पिता को चाकू घोंप दिया। जब पीड़िता की मां और भाई ने बीच बचाव करने की कोशिश की तो हमलावर ने उन पर भी हमला कर दिया।

पुलिस ने कहा कि आरोपी की पहचान धन्नाराम के रूप में हुई है। भागने के फिराक में छत से कूदते समय आरोपी जख्मी हो गया और बाद में उसे ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया है।

नासिक में एक दुकान चलाने वाला आरोपी धन्नाराम पाली के किशनपुरा गांव का रहने वाला है। शिकायतकर्ता ने 10 नवंबर को दर्ज शिकायत में कहा कि आरोपी उसे नासिक ले गया, जहां उसने उसके साथ दुष्कर्म किया।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि नाबालिग लड़की धन्नाराम के साथ जुलाई में घर से भाग गई थी और 10 नवंबर को वापस आ गई।

वापस आने के साथ ही उसने दुष्कर्म और अपहरण की शिकायत आरोपी के खिलाफ दर्ज कराई, जिसके बाद जांच की गई।

पुलिस नासिक गई, लेकिन आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी। इसबीच नासिक की अदालत से आरोपी को अंतरिम जमानत मिल गई। हालांकि, पाली के एडीजे कोर्ट ने जमानत को रद्द कर दिया, लेकिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार नहीं किया।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि मृतक पर 11 बार तेज धार हथियार से हमला किया गया। पीड़िता के भाई की उंगलियां भी हमले में कट गई हैं और मां को भी शरीर के कई हिस्सों पर चोटें आई हैं। पीड़िता ने कहा कि हमलावर इस दौरान चिल्लाकर कह रहा था कि वह सभी को मार डालेगा।

पाली के पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा के अनुसार, स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) राजदीपेंद्र को मामले में लापरवाही बरतने के लिए निलंबित कर दिया गया है। विभागीय जांच के आदेश दे दिए गए हैं और दुष्कर्म पीड़िता को सुरक्षा प्रदान की गई है।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleइंग्लैंड की मार्श ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की
Next articleवास्तुटिप्स: किचन में न करें काले रंग का इस्तेमाल, सेहत पर डालता है बुरा असर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here