एक ऐसा घर, जहाँ जाते ही लोगों के साथ होता है जंगली जानवरों जैसा सुलूक

0
15

जयपुर। आपने कभी ऐसा सुना या देखा है कि किसी घर में जाने पर उसके साथ जंगली जानवरों जैसा सुलूक किया गया हो। शायद आपले पहले ऐसा कघी नहीं सुना होगा। जी हां ऐसा ही होता है… आपको बता दें कि अमेरिका के अंदर एक ऐसा घर है, जहां अभी तक छह घंटे से अधिक समय तक कोई नहीं टिक सका है। बता दें कि इस घर में कदम रखते ही लोगों के साथ ऐसा सुलूक होता है, जिसे देखकर किसी की भी रुह कांप जाए। हालांकि, इसके बाबजूद भी लोग यहां आने के लिए उतावले रहते हैं। और इतना ही नहीं बल्कि यहां आने के लिए लोग अच्छे-खासे पैसे भी चुकाते हैं।

आपको बता दें कि अमेरिका के कैलिफोर्निया में मैकेमी मैनर नाम का एक घर है। इसको  आप टॉर्चर हाउस या हॉन्टेड हाउस भी समझ सकते हैं। इस घर को ऐसा हॉन्टेड बनाने के लिए करोड़ों रुपए खर्चा भी किया गया है। यहां उस घर में आने के लिए लोगों की लंबी लाइन भी लगी रहती है। घर में कदम रखते ही उन्हें बहुत ज्यादा टॉर्चर किया जाता है। बता दें कि तरह-तरह की यातनाएं भी सहनी होती हैं। वहाँ पर लोगों को जानवरों से कटवाया जाता है। बता दें कि लोगों को बेल्ट से बांधकर चूहा, सांप और कई जहरीले जानवरों के बीच छोड़ दिया जाता है। यही नहीं बल्कि बुरी तरह से पीटा भी जाता है। खतरनाक जानवरों में बड़ी-बड़ी मकड़ियां भी शामिल होती हैं।

जानकारी के लिये बता दें कि वहॉ पर लोग इतना सब कुछ खुद की मर्जी से ही करवाने आते हैं। वहॉ आने वाला हर इंसान इस दर्द के लिए खुद  पैसे भी देते हैं। बता दें कि खतरनाक जानवरों के साथ एक डब्बे में कर देते हैं बंदयातनाओं का दौर यहीं खत्म नहीं होता। यही नहीं इंसान को एक छोटे से डब्बे में भी बंद कर देते हैं। बताया जाता है कि 2008 में एक शख्स को घर के अंदर हार्ट अटैक ही आ गया था। हालांकि, उसकी जान बचा ली गई थी।

जानकारी के अनुसार बता दें कि जब लोगों से इस बारे में बात की गई कि आखिर वह खुद को टॉर्चर क्यों करवाते हैं। और क्यों इतना दर्द सहते हैं। तो इस सवाल पर ज्यादातर लोगों का जवाब यही था कि वह अपने मनोवैज्ञानिक स्तर की जांच करने के लिए ऐसा करवाते हैं। वहॉ के लोगों का कहना था कि वह इस बात की जांच करना चाहते हैं कि वह बुरे से बुरे हालातों में रह सकते हैं या नहीं। वह अपनी झमताओं को जांचने के लिए इस टॉर्चर हाउस में आते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here