वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा डिवाइस, जो दिखाता है समुद्र की गहराई में क्या-क्या है छिपा

0

Benthic Underwater Microsope (BUM), ये एक ऐसा तकनीकी गोताखोर है जो पानी के नीचे माइक्रोस्कोपिक और कंप्यूटर इंटरफ़ेस के जरिए ये बता सकता है कि नीचे गहराईयों में पाए जाने वाले छोटे-छोटे जीव-जंतु इस प्रकृति में कैसे व्यवहार करते हैं। यह डिवाइस 10 माइक्रोमीटर से भी कम साइज के सूक्ष्मजीवों को देखने में सक्षम है। वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट में बताया गया है कि पिछली माइक्रोस्कोपिक तकनीक की तुलना में ये दो से पांच गुना अधिक शक्तिशाली हैं।

सूक्ष्मजीवों के व्यवहार को दिखाने के साथ-साथ यह डिवाइस ये भी बता सकता कि जीव आपस में अन्य जीवों के साथ, कैसे खेलते हैं और किस तरह से रहते हैं। Scripps Institution of Oceanography’s Jaffe Laboratory, कैलिफोर्निया के वैज्ञानिकों ने इस डिवाइस को बनाया है। इसको बनाने के पीछे उनका उद्देश्य ये था किस तरह से पानी के नीचे पाए जाने वाले ये जीव खाने, शिकार और किस तरह से पानी के नीचे वातावरण से तालमेल बिठाते हैं।

जर्नल नेचर में प्रकाशित अध्ययन में ये पाया गया कि coral polyps, coral reefs ये पानी के नीचे  पाए जाने वाले सॉफ्ट बॉडी वाले जानवर होते हैं जिनके छोटे मुंह पाए जाते हैं। बीएम तकनीक का प्रयोग करके, वैज्ञानिकों को सबसे हैरान कर देने वाला सीन ये देखने को मिला कि कैसे कोरल रीफ आपस में एक-दूसरे को पानी के नीचे किस करते हैं। लेकिन वैज्ञानिकों को ऐसा लगता है कि वे ऐसा इसलिए करते हैं ताकि वे पोषक तत्वों का आदान-प्रदान कर सकें।

बीएम से ये भी देखा गया कि जब कोरल अन्य प्रजातियों के करीब निकटता दिखाता है तो कोरल पॉलीप्स अन्य प्रजातियों पर हमला करने के लिए तमाम करतब दिखाते हैं। शायद ये आपस में किसी प्रोसेस के जरिए किसी प्रकार की रासायनिक क्रिया करने के लिए ऐसा करते होंगे। वैज्ञानिकों ने आगे बताया कि जलवायु परिवर्तन के कारण इन जीव-जंतुओं में कई तरह के बदलाव देखे गए हैं। साथ ही अब इस तकनीक के जरिए हम समुद्री ईकोसिस्टम को और अच्छे से समझ सकने में कामयाबी हासिल कर लेंगे।

 

SHARE
Previous articleसुपरस्टार समोआ जोए ने किया गर्दन पर सफेद तौलिया पहनने का खुलासा
Next articleक्या चूहों को भी अफसोस होता है?
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here