Chennai airport पर 864 ग्राम सोना जब्त, कीमत 45.4 लाख रुपये

0

चेन्नई एयर कस्टम्स ने बुधवार को कहा कि उसने दुबई से यहां आने वाले चार यात्रियों से 864 ग्राम सोने का पेस्ट जब्त कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है, जिसकी बाजार में कीमत 45.4 लाख रुपये है। कस्टम आयुक्त अपने बयान में कहा मंगलवार रात को सिराजिदीन जाफर (27), अनीश रहमान (24), शतकतुल्ला (24) और साहुबर अली (39) को हवाईअड्डे पर रोका गया। सभी तमिलनाडु के रामनाथपुरम निवासी हैं।

इंटेलिजेंस यूनिट के अधिकारियों द्वारा पूछताछ में पता चला कि उन्होंने मलाशय में 17 सोने के पेस्ट का बंडल छिपाए गए हैं । सीमा शुल्क 1962 अधिनियम के तहत बरामद सोने के पेस्ट को जब्त कर लिया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleAndhra Pradesh के उत्तरी तटीय इलाकों में भारी बारिश के आसार
Next articleMPL Rogue Heist एक और रॉयल फाइट गेम है जिसका उद्देश्य भारत में PUBG मोबाइल द्वारा छोड़े गए जगह को भरना है
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here