समुद्र में नाव डूबी, बाल-बाल बचे 7 fishermen

0

मालपे के थरानाथ कुंदर के स्वामित्व वाली ‘मथुरा’ नाव पर सवार 7 मछुआरों की जान उस समय बाल बाल बची जब ये नाव महाराष्ट्र के समुद्री तट के पास डूब गई। ये हादसा 26 नवंबर को हुआ था और इसमें विनोद हरिकांत, महेश, लोकेश, शेखर, गंगाधर जटगा मोगेरा, नागप्पा नारायण हरिकांत और अनिल गताबेरा हरिकांत सवार थे, जो बाल बाल बच गए। नाव क्षतिग्रस्त होने के बाद डूबने लगी तो मछुआरे चिल्लाने लगे और उन्होंने मदद की गुहार लगाई। किस्मत से पास ही बीएसएनएल-स्काईलो 2-वे संचार उपकरण से लैस एक नाव ‘माहुर’ थी, जिसने उनकी पुकार सुन ली।

अपने उपग्रह आधारित बीएसएनएल-स्काईलो 2-वे संचार तकनीक का उपयोग करते हुए, ‘माहुर’ ने ‘मथुरा’ नाव के मालिक और महाराष्ट्र कोस्टल सेक्युरिटी से संपर्क साधा और उन्हें तत्काल सूचना पहुंचाई। दो-तरफा संचार प्रणाली का उपयोग करते हुए, इस तकनीक ने डूबते हुए नाव की सही जगह की पहचान बताई और सातों मछुआरों को बचाने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।

‘मथुरा’ नाव के मालिक थरनाथ कुंदर ने कहा कि सात मछुआरों की सुरक्षित वापसी से राहत मिली है। उन्होंने कहा, “यह किस्मत की बात है कि दूसरी नाव आधुनिक संचार से लैस थी और मेरे चालक दल की चीखें उनको सुनाई दे गई। उनका हार्दिक आभार। उन्होंने न केवल मछुआरों कि जिंदगी बचाई, बल्कि उनके परिवार को भी तबाही से बचा लिया। उन्होंने कहा कि इस तरह के आधुनिक संचार उपकरण जल्द ही सभी नावों पर उपलब्ध होंगे ताकि मछुआरों को समय पर मदद मिल सके।”

इस घटना की पुष्टि करते हुए कर्नाटक सरकार के मत्स्य विभाग के गणेश के. ने कहा, “यह ईश्वर की कृपा है कि मछुआरे सुरक्षित बच गए और अपने परिवारों के पास लौट आए। यह वास्तव में अद्भुत है कि तकनीक उनकी सहायता के लिए आई। प्रभावी संचार तकनीक की कमी के कारण हम कई जीवन खो चुके हैं। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हम ऐसी आधुनिक तकनीकों को अपनाएं जो हमारे मछुआरों को न केवल जीवन बचाने में मदद कर सके, बल्कि उनकी उत्पादकता में सुधार कर सके।”

उपग्रह आधारित नेविगेशन सिस्टम जैसी आधुनिक कनेक्टिविटी प्रौद्योगिकियों की अनुपलब्धता के चलते हर साल सैकड़ों मछुआरों का जीवन समुद्र में खो जाता है। ये तकनीक भारतीय मछुआरों को समय पर अलर्ट भेजने में मदद करती है। इससे उनके समुद्र में बेहतर तरीके से मछलियों को पकड़ने में भी मदद मिलती है।

नेक्सट जेनरेशन डिजिटल और उपग्रह संचार प्रौद्योगिकियों को अपनाने से ना केवल मछली पकड़ने की उत्पादकता बढ़ेगी, बल्कि विश्व स्तरीय प्रतिस्पर्धा पैदा होगी, और समुद्र में मछुआरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की चुनौती का भी सामना किया जा सकेगा। नई उपग्रह तकनीक के साथ आज भारत के पास ऐसी सेवाओं की पहुंच है, जिससे मछुआरों की सुरक्षा सुनिश्चित होगी और तूफान, चक्रवात या अन्य प्राकृतिक आपदाओं के दौरान भी संचार स्थापित करने में मदद मिलेगी।

नयूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleTata Sons टाटा केमिकल्स में 76 करोड़ रुपये के शेयर खरीदती है
Next articleKhataBook ने लॉन्च किया Pagara Khata App, यह होगा छोटे कारोबारियों को फायदा,जानें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here