थाईलैंड में Corona के 54 नए मामले

0
Karad: Hospital staff shifts a COVID-19 patient to a special ward for treatment, during the ongoing nationwide lockdown, in Karad, Friday, May 29, 2020. (PTI Photo)(PTI29-05-2020_000134A)

थाईलैंड ने गुरुवार को कोरोनावायरस जांच रिपोर्ट में 54 नए मामले सामने आए हैं। इसकी जानकारी सेंटर फॉर द कोविड सिचुएशन एडमिनीस्ट्रेशन (सीसीएसए) ने गुरुवार को दी। सीसीएसए की रिपोर्ट में कहा गया है कि गुरुवार के नए मामलों में से 44 मामले स्थानीय संपर्क हैं, जबकि 10 अन्य इंपोर्टेड मामले हैं।

थाईलैंड ने अब तक कोरोना मामलों की संख्या बढ़कर 26,162 हो गई है, जिसमें से 23,353 स्थानीय मामले हैं, और 2,809 इंपोर्टेड मामले हैं।

इस घातक वायरस से अब तक 25,562 मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं, जबकि 515 अन्य वर्तमान में अस्पताल में भर्ती हैं। देश में घातक वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 85 हो गई है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleCongress स्क्रीनिंग पैनल के उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए बैठक
Next articleSasikala के राजनीति छोड़ने के फैसले पर अन्नाद्रमुक को संशय
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here