10वीं पास के लिए 4000 जेलप्रहरी की भर्तियां, अभी करें आवेदन !

0
2425

यदि आप भी पुलिस में जाने की इच्छा रखते हैं तो ये खबर आपके लिए है आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि पुलिस विभाग ने जेल प्रहरी के करीब 4000 पदों के लिए आॅनलाइन आवेदन आमंत्रित किए हैं, तो आइए जानते हैं इनके बारे में ।

विभाग नाम : पुलिस संवर्धन बोर्ड, उत्तर प्रदेश

पद का नाम : जेल प्रहरी

पदों की संख्या :4000

वेतन : 25000 रुपये प्रति माह

योग्यता : 10 वीं पास

आयु सीमा : न्यूनतम 18 वर्ष

कार्यस्थल : उत्तर प्रदेश

आवेदन कैसे करें :ऑनलाइन आवेदन

योग्यता विवरण और अन्य जानकारी के लिए uppbpb.gov.in पर जाएं।

अंतिम तिथि : 28 दिसम्बर 2018

नोट:- सभी योग्य एवं इच्छुक उम्मीदवारों से अनुरोध है कि इस भर्ती संबधी निर्देशों का अवलोकन भली-भांति कर लें औरर उसके बाद ही इन पदों पर आवेदन करें ।

 


SHARE
Previous articleमहिंद्रा जल्द अपनी नई अपकमिंग कार के नाम की करेगी घोषणा, जानिए कैसी होगी ये कार
Next articleअगर रात को सोते समय आपके मुँह से बहती है लार तो इस खबर को जरुर पढ़े वरना बाद में पछताओगे
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here