‘म्यूचुअल फंड सही है’ अभियान के तहत जुड़े 32 लाख नए निवेशक

0
219

भारत में सभी म्यूचुअल फंडों के एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (एएमसी) का उद्योग संघ एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एएमएफआई) ने कहा कि म्यूचुअल फंड निवेशक जागरूकता अभियान, ‘म्यूचुअल फंड्स सही है’ की सफलता के बारे में बताया। म्यूचुअल फंड की जागरूकता बढ़ने से पिछले साल 32 लाख नए निवेशकों को शामिल किया गया। एएमएफआई के चेयरमैन ए. बालासुब्रमण्यन ने कहा, “म्यूचुअल फंडों के जरिए ‘म्यूचुअल फंड सही है’ अभियान के माध्यम से, सेबी के मार्गदर्शन में उचित प्रयास है। दीर्घकालिक भारत के विकास की कहानी के साथ बढ़ती घरेलू आय और वित्तीय बचत के लिए बढ़ते आकर्षण को देखते हुए हमें यकीन है कि आने वाले वर्षो में म्यूचुअल फंड हर घर के लिए निवेश का सबसे पसंदीदा विकल्प बन जाएगा।”

बालासुब्रमण्यन ने कहा, “विशेष रूप से बाजार की अस्थिरता की स्थिति और दीर्घ अवधि के लाभ का लक्ष्य रखने के लिए, हम म्यूचुअल फंड निवेशकों को धैर्य रखने और निवेश करने के लिए अपने पोर्टफोलियो में डेट और हाइब्रिड फंड जोड़ने और एसआईपी के माध्यम से अधिक निवेश करने की सलाह देते रहेंगे।”

इस अवसर पर, एएमएफआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एनएस वेंकटेश ने कहा, “हमने हाल के वर्षों में म्यूचुअल फंड उद्योग में भारी वृद्धि देखी है। आगे हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि निवेशकों का विश्वास म्यूचुअल फंडों में लंबे समय तक निवेश करने के लिए जारी रहे।”

‘म्यूचुअल फंड सही है’ अभियान का पहला चरण, म्यूचुअल फंड के बारे में जागरूकता पैदा करने और मिथकों को खत्म करने के उद्देश्य से मार्च 15, 2017 से शुरू किया गया था। इस अभियान को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली क्योंकि म्यूचुअल फंड कंपनियों ने पिछले एक साल में कुल 32 लाख नए निवेशकों को जोड़ लिया।

उद्योग ने 31 मार्च 2017 की तुलना में कुल एयूएम में 25 प्रतिशत (4.25 लाख करोड़ रुपये) और रिटेल एयूएम में 38 प्रतिशत (3.25 लाख करोड़ रुपये) की वृद्धि 28 मार्च 2018 तक दर्ज की। इसी अवधि में फोलियो और एसआईपी खातों की कुल संख्या क्रमश: 26 प्रतिशत (1.05 करोड़) और 52 प्रतिशत (70 लाख) की वृद्धि देखी गई। उद्योग के लिए मासिक एसआईपी योगदान 2.05 करोड़ एसआईपी खातों से 6,425 करोड़ रुपये के स्तर तक गया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleअंतर-कोरियाई शिखर वार्ता: 27 अप्रैल को आमने-सामने होंगे किम जोंग उन और मून जेई इन
Next articleकम से कम खर्चे में करें ट्रेवलिंग, इन 5 तरीकों से
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here