हरियाणा में 22 फीसदी युवा प्रमुख भूमिका निभाएंगे

0
132

हरियाणा में सोमवार को होने वाले विधानसभा चुनावों में 20 से 29 आयु वर्ग के करीब 22 फीसदी मतदाता मुख्य भूमिका निभाते नजर आएंगे। ऐसा सामाजिक विश्लेषकों का मानना है।

निर्वाचन आयोग के अनुसार, 40,67,413 मतदाता 20 से 29 आयु वर्ग के हैं और 44,92,809 मतदाता 30 से 39 आयु वर्ग समूह के हैं। 1.83 करोड़ मतदाताओं में से पहली बार मतदान करने वाले मतदाताओं की संख्या 3,82,446 है।

राज्य में 80 से ज्यादा आयु वर्ग में 4,18,961 मतदाता हैं। 40 से 49 आयु वर्ग में कुल 35,67,536 मतदाता हैं। 50 से 59 आयु वर्ग में 27,90,783 मतदाता, 60-69 आयु वर्ग में 17,39,664 मतदाता और 70-79 आयु वर्ग में 8,22,958 मतदाता हैं।

राज्य में पुरुष मतदाता 98.7 लाख और महिला मतदाता 85.1 लाख हैं और थर्ड जेंडर में 252 मतदाता हैं।

19,578 मतदान केंद्र में से 153 सहायक मतदान केंद्र हैं।

एक निर्वाचन अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि प्रचार अभियान का मकसद बड़ी संख्या में मतदाताओं को बाहर लाना और 21 अक्टूबर को 90 विधानसभा सीटों के लिए अपने मताधिकार के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहित करने पर है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleदुनिया के सात प्रसिद्ध शहर जहां आज भी कारें निषिद्ध हैं।
Next article5,000mAh की बैटरी के साथ Vivo U3 हुआ लॉन्च, इतनी है कीमत
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here