यह हैं भारत के सबसे ईमानदार नेता, नंबर 1 तो सबका चहेता है

0
415

जयपुर। आज समस्त भारत आजादी के जश्न में डूबा हुआ है। हर तरफ जश्न का माहोल हैं। देश की आजादी की खुशी हर किसी के चेहरे पर नजर आ रही है। तथा लोग बड़े ही हर्ष और उल्लास के साथ स्वतंत्रता दिवस मना रहे हैं। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से आजाद भारत के सबसे ईमानदार नेताओं के बारे में बताने जा रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इन नेताओं ने जो कार्य किए थे वह किसी भी राजनीतिक पार्टी से परे थे तथा इनके कार्य भारत के लिए समर्पित थे।

1. सरदार वल्लभभाई पटेल:
आपको बता दें कि इस सूची में सरदार वल्लभभाई पटेल पहले स्थान पर हैं। आजादी के समय अगर सरदार वल्लभ भाई पटेल ना होते तो आज हमारा देश शायद न जाने कितने टुकड़ों में बंट चुका होता। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत की समस्त रियासतों को जोड़ने का काम सरदार वल्लभ भाई पटेल ने ही किया था।

2. लाल बहादुर शास्त्री:
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लाला बहादुर शास्त्री को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है। तथा वे भारत के दूसरे प्रधानमंत्री रह चुके हैं। सबसे ईमानदार नेता की सूची में लाल बहादुर शास्त्री दूसरे स्थान पर हैं। को बता दें कि पाकिस्तान के साथ 1965 में युद्ध के समय भारत में भुखमरी जैसी हालात पैदा हो गए थे। लेकिन लाल बहादुर शास्त्री ने उस बुरे समय में हालातों को काफी अच्छे से संभाला था। तथा लाल बहादुर शास्त्री ने ही देश को जय जवान जय किसान का नारा दिया था।

3. सुभाष चंद्र बोस:
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सुभाष चंद्र बोस ईमानदार नेताओं की सूची में तीसरे स्थान पर आते हैं। आपको बता दें कि सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस में बढ़ते षड्यंत्र के चलते इंडियन नेशनल कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया था। तथा अपनी एक अलग ही सेना बनाई थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर सुभाष चंद्र बोस के नेतृत्व में बनी आजाद हिंद फौज न होती तो अंग्रेजों पर हिटलर का विदेशी दबाव नहीं पड़ता और न ही भारत आजाद होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here