2026 तक भारत को पहला 5G कनेक्शन मिल सकता है, रिपोर्ट का दावा

0

टेलीकॉम कंपनी एरिक्सन ने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि वर्ष 2026 तक दुनिया भर में 3.5 बिलियन 5 जी कनेक्शन होंगे, जबकि भारत में उनकी संख्या लगभग 35 करोड़ होगी। एरिक्सन के नेटवर्क समाधान (दक्षिण पूर्व एशिया, ओशिनिया और भारत) के प्रमुख नितिन बंसल का कहना है कि अगर स्पेक्ट्रम की नीलामी अगले साल की शुरुआत में हो जाती है, तो भारत को 2021 में अपना पहला 5 जी कनेक्शन मिल सकता है। एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट 2020 के अनुसार, दुनिया भर में एक अरब लोग, जो वैश्विक आबादी का 15% हिस्सा हैं, 5 जी कवरेज तक पहुंच रखते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी की 2026 तक 5G सेवाओं तक पहुंच होगी और उस समय तक 5G ग्राहकों की संख्या बढ़कर 3.5 बिलियन होने की उम्मीद है। उस समय तक, भारत में 5G ग्राहकों की संख्या 35 मिलियन का आंकड़ा पार कर जाएगी, जो कुल मोबाइल उपयोगकर्ताओं का 27 प्रतिशत होगा।

भारत को 2021 तक पहला 5G कनेक्शन मिल सकता है
बंसल ने कहा कि 5G सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी की घोषित समय सीमा के अनुसार, भारत को 2021 में अपना पहला 5G कनेक्शन मिल सकता है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में प्रति माह प्रति उपयोगकर्ता औसत यातायात 15.7 GB है, जो कि उच्चतम है विश्व। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 2020 में भारत में 4 जी प्रमुख प्रौद्योगिकी बनी हुई है। कुल मोबाइल सब्सक्रिप्शन में 63 प्रतिशत 4 जी हैं। 2026 तक 3 जी के खत्म होने की उम्मीद है।

भारत में मासिक उपयोग में वृद्धि
रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 में भारत में स्मार्टफोन की सदस्यता बढ़कर 76 करोड़ हो गई है। उन्हें 2026 तक लगभग 7 बिलियन सीएजीआर से 1.2 बिलियन तक पहुंचने की उम्मीद है। मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाओं की कीमतें कम होने, सस्ते स्मार्टफोन और लोगों द्वारा ऑनलाइन खर्च किए जाने के कारण भारत में मासिक उपयोग बढ़ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here