देश में अगले 12 सालों में होंगे 10,000 सीएनजी स्टेशन, जानिए क्या है योजना

0
33

जयपुर। इस साल हुए 58वें वार्षिक सियाम कन्वेंशन में सबसे ज्यादा चर्चा इलेक्ट्रिक वाहनों के बारे में हुई। इसके अलावा इस क्नवेंशन में देश के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने सीएनजी वाहनों के लेकर चर्चा किया। उन्होनें देश के सीएनजी स्टेशन्स के स्ट्रक्चर को बेहतर करने को लेकर चर्चा की।

धर्मेंद्र प्रधान ने इस चर्चा के दौरान कहा कि भारत में वर्ष 2030 तक हम 10,000 सीएनजी स्टेशन्स खोलेगें। आपको बता दें कि फिलहाल देश में अप्रैल 2018 तक कुल 1424 सीएनजी स्टेशन्स है। इन सीएनजी स्टेशन्स पर देश की करीब 30 लाखों सीएनजी वाहनों का भार है।

जानकारी के लिए बता दें कि भारत में मौजूदा समय में मारुति सुजुकी और हुंडई ही फैक्ट्री फिटेड सीएनजी किट्स वाली कारों में दे रहे है। वहीं फोर्ड ने भी अपने वाहनों में सीएनजी देने की शुरुआत की है। इसके अलावा बाकि के सभी कंपनियां अपने वाहनों में सीएनजी का ऑप्शन नही देते है। लेकिन माना जा रहा है कि अगले दो सालों के अंदर सभी वाहन निर्माता कंपनियां अपने वाहनों में सीएनजी का ऑप्शन देना शुरु कर देंगी।

पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि हर एक सीनजी कार हर महीने करीब 750 लीटर पेट्रोल की बचत करती है। इसके अलावा सीएनजी वाहन ईंधन वाहन के मुकाबले कम प्रदूषण फैलाते है और सबसे बड़ी बात यह कि सीएनजी घरेलू है जिसके कारण हमे किसी देश पर निर्भर नही रहता होता है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय ग्राहकों के सीएनजी वाहनों से दूरी की एक बड़ी वजह सीएनजी स्टेशन्स पर हर रोज लगने वाले लंबी लाइन है। इस समय देश के कुल सीएनजी स्टेशन्स में करीब 82 फीसदी स्टेशन्स केवल गुजरात, महाराष्ट्र और नई दिल्ली में ही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here